UNGA को आज संबोधित करेंगे पीएम मोदी, आतंकवाद समेत इन मुद्दों पर रहेगा फोकस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा ( United Nations General Assembly) के 76वें सत्र को संबोधित करेंगे। इस मंच से पीएम मोदी आतंकवाद को लेकर कड़ा संदेश दे सकते हैं। इसके अलावा पीएम का संबोधन कोरोना महामारी, जलवायु परिवर्तन और अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों सहित वैश्विक चुनौतियों से निपटने पर केंद्रित रहने की संभावना है।

इस साल की यूएनजीए की आम चर्चा का विषय है 'कोविड-19 से उबरने की आशा के माध्यम से लचीले रुख का निर्माण, स्थायी रूप से पुनर्निर्माण, ग्रह की जरूरतों का जवाब देना, लोगों के अधिकारों का सम्मान करना और संयुक्त राष्ट्र को पुनर्जीवित करना।' यूएनजीए का 76वां का उच्च स्तरीय सत्र मंगलवार को न्यूयार्क में शुरू हुआ। इस वर्ष संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक हाइब्रिड प्रारूप में हो रही है, लेकिन बड़ी संख्या में नेता न्यूयार्क पहुंचे हैं।

बता दें कि क्वाड समिट में अमेरिका, आस्ट्रेलिया और जापान के साथ द्विपक्षीय वार्ता के बाद पीएम मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र को संबोधित करने के लिए न्यूयार्क पहुंच गए हैं। यहां पहुंचने पर परीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा, 'आज न्यूयार्क शहर में उतरा। 25 सितंबर की शाम 6:30 बजे यूएनजीए को संबोधित करूंगा।'

विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी सीमा पार आतंकवाद, क्षेत्रीय स्थिति और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) के सुधारों सहित विभिन्न महत्वपूर्ण मुद्दों पर बोलेंगे। यूएनएससी में भारत की स्थायी सदस्यता के बारे में श्रृंगला ने कहा कि पीएम मोदी अपने संबोधन के दौरान UNSC में सुधारों पर जोर देंगे।

उन्होंने कहा, 'भारत का अमृत महोत्सव और संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगांठ मेल खा रही है। इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी अपने संबोधन के दौरान यूएन रिफॉर्म्स पर बोलेंगे कि इसकी जरूरत क्यों है और इसे कैसे हासिल किया जा सकता है।'

पीएम मोदी बुधवार को तीन दिवसीय यात्रा पर वाशिंगटन पहुंचे थे। प्रधानमंत्री ने यहां अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और उप राष्ट्रपति कमला हैरिस के साथ द्विपक्षीय बैठक की। उन्होंने अपने आस्ट्रेलियाई समकक्ष स्काट मारिसन और जापानी पीएम योशीहिदे सुगा से भी मुलाकात की। पीएम मोदी ने कोरोना महामारी के बाद वाशिंगटन में पहले इन-पर्सन क्वाड समिट में भी भाग लिया। उन्होंने गुरुवार को भारत में संभावित निवेश के लिए पांच वैश्विक सीईओ के साथ बैठक की।