वैक्सीन की दो डोज लेने पर डेल्टा वैरिएंट से बचाव संभव, यूरोपीय मेडिसिंस एजेंसी ने भी की इसकी पुष्टि

यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी ने गुरुवार को कहा कि COVID वैक्सीन की दो खुराक कोरोना वायरस के तेजी से फैल रहे डेल्टा वेरिएंट से सुरक्षा प्रदान करती दिखाई दे रही है। बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी थी कि भारत में पहली बार देखा गया संस्करण यूरोप में मामलों की एक नई लहर को जन्म दे सकता है। ऐसे में अब कोरोना की दो डोज से बचाव की जानकारी सुखद है। ईएमए के टीके रणनीति के प्रमुख, मार्को कैवेलरी ने कहा कि एम्स्टर्डम स्थित वॉचडॉग डेल्टा संस्करण के तेजी से प्रसार के कारण होने वाली चिंताओं से अवगत था। अभी ऐसा लगता है कि यूरोपीय संघ में स्वीकृत चार टीके डेल्टा संस्करण सहित यूरोप में सामने आए सभी संक्रमण से रक्षा कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि वास्तविक दुनिया के साक्ष्य से उभरते आंकड़े दिखा रहे हैं कि टीकों की दो खुराक डेल्टा संस्करण के खिलाफ सुरक्षात्मक हैं। जो चार टीके वर्तमान में यूरोपीय संघ में उपयोग के लिए स्वीकृत हैं उनमें- फाइजर / बायोएनटेक, मॉडर्न, एस्ट्राजेनेका और जॉनसन एंड जॉनसन हैं।

बता दें कि दुनिया में डेल्टा वैरिएंट का कहर बढ़ता जा रहा है। यह तेजी से फैल रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बताया कि यह वैरिएंट 96 देशों तक पहुंच चुका है। साथ ही आगाह किया कि आने वाले महीनों में कोरोना का यह बेहद संक्रामक स्वरूप विश्वभर में हावी हो जाएगा।

समाचार एजेंसी रायटर के अनुसार, डब्ल्यूएचओ ने यूरोप में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी दी है। डब्ल्यूएचओ के यूरोप मामलों के प्रमुख हंस क्लूगे ने कहा कि यूरोप में कोरोना के नए मामलों में दस हफ्ते से जारी गिरावट का दौर खत्म होने वाला है। अगर लोग अनुशासित नहीं रहे तो एक और लहर को टाला नहीं जा सकता है।