PNB Fraud Case: ब्रिटेन के गृह मंत्री ने दी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण की मंजूरी, भारत आने का रास्ता हुआ साफ

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण का रास्ता साफ हो गया है। सीबीआइ अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि ब्रिटेन के गृह मंत्री प्रीती पटेल ने नीरव मोदी के प्रत्यर्पण की मंजूरी दे दी है। इससे पहले लंदन की अदालत ने मामले की सुनवाई करते हुए नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण पर सहमति जताई थी और उसकी सभी दलीलों को खारिज करते हुए कहा था कि उसका भारत की जेल में ख्याल रखा जाएगा। भगोड़े नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक (PNB) से करीब 14 हजार करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप है।

बता दें कि 19 मार्च, 2019 को गिरफ्तारी के बाद से नीरव मोदी बार-बार जमानत से वंचित होने के बाद लंदन की वंड्सवर्थ जेल में बंद है। प्रत्यर्पण से बचने के लिए नीरव मोदी ने कोर्ट में कहा था कि वह मानसिक रूप से बीमार है। साथ ही उसने भारत की जेल में सुविधाएं न होने का दावा किया था। हालांकि, कोर्ट ने नीरव मोदी की इन दलीलों को खारिज कर दिया था। 

मार्च 2018 में नीरव मोदी को लंदन में किया गया था गिरफ्तार

गौरतलब है कि जनवरी 2018 में पीएनबी के लाइन ऑफ क्रेडिट के माध्यम से 14 हजार करोड़ रुपये के घोटाले के खुलासे के बाद नीरव मोदी परिवार सहित विदेश भाग गया था। सीबीआइ और ईडी ने जांच में नीरव की संलिप्तता के सुबूत के आधार पर उसके खिलाफ रेडकार्नर नोटिस जारी कराया था। दिसंबर 2018 में नीरव के हुलिया बदलकर लंदन में छुपे होने की पुष्टि हुई थी। मार्च 2018 में उसे लंदन में गिरफ्तार कर लिया गया। इसी तरह घोटाले का दूसरा आरोपी मेहुल चोकसी एंटीगुआ फरार हो गया था। एंटीगुआ