बिहार: सदन में तेजस्‍वी की दादागिरी, कहा- सीएम नीतीश कुमार को भी सदन में बोलने नहीं देंगे, स्‍पीकर ने कहा-धमकी नहीं चलेगी

बिहार विधानसभा (Bihar Assembly) में आज तो हद हो गई। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (leader of oppostion Tejashwi Yadav) सदन में भी सीधे-सीधे दादागिरी दिखाने पर उतर आए हैं। हुआ यह कि उनके संबोधन के दौरान बिहार सरकार में गन्ना मंत्री प्रमोद कुमार (Minister Pramod Kumar) खड़े हो गए और कल की घटना को लेकर तेजस्वी से माफी मांगने की मांग करने लगे। अपने संबोधन के दौरान हंगामा कर रहे मंत्रियों से पहले तेजस्वी ने बैठ जाने का आग्रह किया, लेकिन जब नहीं मानें तो तेजस्वी यादव बिफर गए। अंगुली दिखाकर मंत्री से कहा कि अगर ऐसा कीजिएगा तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar)  को भी सदन में बोलने नहीं देंगे।

नहीं चलेगी धमकी की भाषा

इसके बाद  विधान सभा अध्‍यक्ष विजय कुमार सिन्‍हा ने तुरंत हस्‍तक्षेप किया। सख्‍त लहजे में कहा कि सदन में धमकी की भाषा नहीं चलेगी। नेता प्रतिपक्ष और मंत्री को सदन की गरिमा और मर्यादा बनाए रखने की नसीहत दी। उन्‍होंने तेजस्‍वी को टोका कि आसन की ओर देखकर बोलिए मंत्री की तरफ नहीं। मगर तेजस्‍वी तब भी नहीं माने। उन्‍होंने कल के वक्‍तव्‍य को उचित ठहराते हुए कहा- हमने सही ही तो कहा। इसमें गलत क्‍या है। काश मंत्री जी सवालों का सही जवाब दे पाते।

यह था मामला

दरअसल, गन्‍ना मंत्री प्रमोद कुमार को कल सोमवार को तेजस्‍वी यादव ने कह दिया था - गजब है, कैसे-कैसे लोगों को मंत्री बना देते हैं। ठीक से जवाब देना भी नहीं आता। तेजस्‍वी के बिगड़े बोल पर सदन में डिप्‍टी सीएम तारकिशोर प्रसाद सहित सत्‍ता पक्ष के मंत्रियों और विधायकों ने जोरदार प्रतिकार किया था। डिप्‍टी सीएम ने गुस्‍से में यहां तक कहा था कि तेजस्‍वी सदन में गलत परंपरा की शुरूआत कर रहे हैं। नेताओं ने एक सुर में कहा था कि सदन में मंत्री का अपमान बर्दाश्‍त नहीं करेंगे।

बता दें कि मंत्री प्रमाेद कुमार ने दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है। वे भाजपा के अतिपिछड़े वर्ग का प्रमुख चेहरा हैं। वे पांच बार के विधायक भी हैं।

ADVERTISEMENT