बंगाल के पुलिस अधिकारियों की फेसबुक पर फर्जी प्रोफाइल, जांच के तार उप्र, बिहार, झारखंड से जुड़े


बंगाल के कई वरिष्ठ आइपीएस अधिकारियों के फर्जी प्रोफाइल फेसबुक पर मिले हैं और शुरुआती जांच में यह पाया गया कि इन्हें उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड समेत विभिन्न राज्यों से संचालित किया जा रहा है। आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि चंदननगर के पुलिस आयुक्त हुमायूं कबीर, रायगंज के पुलिस अधीक्षक सुमित कुमार, मालदा के पुलिस अधीक्षक आलोक राजोरिया और सिलीगुड़ी ईस्ट जोन के सहायक आयुक्त स्वपन सरकार के फर्जी सोशल मीडिया अकाउंट मिले हैं।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा उत्तरी दिनाजपुर और दक्षिण बंगाल के जिलों में तैनात कुछ वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को भी ऐसे प्रोफाइलों के जरिये निशाना बनाया गया है। सूत्रों ने कहा कि इन फर्जी सोशल मीडिया अकाउंट में इन अधिकारियों की तस्वीर हैं और उनसे इन अधिकारियों के संपर्कों को ‘फ्रेंड रिक्वेस्ट’ भेजी जा रही है।

कबीर ने कहा, “हां, मुझे मेरे एक परिचित ने नए अकाउंट के बारे में बताया। मैंने उनसे प्रोफाइल के स्क्रीन शॉट भेजने को कहा। हालांकि इससे पहले की हम कुछ कर पाते प्रोफाइल को निष्क्रिय कर दिया गया। हमें यूआरएल मिल गया है जिसके आधार पर जांच शुरू की गई है।” राजोरिया ने कहा कि पुलिस ने फेसबुक को मामले की जानकारी दी है और जांच जारी है।

सूत्रों ने कहा कि इनमें से अधिकतर अकाउंट को निष्क्रिय कर दिया गया है। सीआइडी की साइबर शाखा के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि शुरुआती जांच में यह पाया गया कि यह अकाउंट उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, ओडिशा और पंजाब से संचालित किये जा रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव भी होने हैं ऐसे में बेहद सतर्कता के साथ मामले की जांच की जा रही है। मामले में हालांकि अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। 

ADVERTISEMENT