पुलिस दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री ने की कई घोषणाएं, पत्रकारों के लिए भी दुर्गा पूजा बोनस की घोषणा


मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को राज्य में पहले पुलिस दिवस के मौके पर पुलिस के कल्याण के लिए कई महत्वपूर्ण घोषणाएं भी की। उन्होंने सभी जूनियर कॉन्स्टेबल को कॉन्स्टेबल के रूप में प्रमोशन का तोहफा दिया। अब उन्हें कॉन्स्टेबल की सुविधा मिलेगी।

वहीं, मुख्यमंत्री ने सिविक पुलिस वालंटियर, होमगार्ड, ग्रामीण पुलिस, सिविल डिफेंस वालंटियर सहित आशा कर्मियों की छुट्टियों को बढ़ाकर 24 दिन करने की घोषणा की। इन सभी को इस बार 2000 रुपए पूजा बोनस देने का भी उन्होंने ऐलान किया। पहले इन लोगों को बोनस नहीं मिलता था। इसके अलावा ममता ने होमगार्ड व सिविक वॉलिंटियर के दैनिक वेतन को ₹480 से बढ़ाकर 548 रुपये करने की घोषणा की। इससे उनके वेतन में हर महीने 2040 रुपए की बढ़ोतरी होगी। सिविक वॉलिंटियर को अब हर साल यूनिफॉर्म एलाउंस के रूप में भी 2000 रुपए देने की उन्होंने घोषणा की जो पहले नहीं मिलता था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नौकरी के दौरान किसी की भी मृत्यु होने पर राज्य सरकार की ओर से परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी मिलेगी। मुख्यमंत्री ने पुलिस कल्याण के लिए एक उच्चस्तरीय कमेटी बनाने की भी घोषणा की। इस दौरान उन्होंने मान्यता प्राप्त पत्रकारों को भी इस साल 2000 रुपए बोनस देने की घोषणा की। जिलों के मान्यता प्राप्त पत्रकारों को 1000 रुपए बोनस मिलेगा।

पत्रकारों के लिए दुर्गा पूजा बोनस की घोषणा की

ममता बनर्जी ने मंगलवार को कोलकाता में मान्यता प्राप्त पत्रकारों के लिए दुर्गा पूजा के दौरान बोनस के तौर पर 2,000 रुपये और जिलों के पत्रकारों को 1,000 रुपये देने की घोषणा की। पुलिस डे के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में ममता ने कहा कि राज्य सरकार ने पहले ही 'मभोई' योजना के तहत पत्रकारों के लिए स्वास्थ्य बीमा प्रदान किया है और सेवानिवृत्ति स्किम के तहत 2,500 रुपये की मासिक पेंशन भी पेश की है।

मुख्यमंत्री ने कहा, 'हम (राज्य सरकार) गरीब हो सकते हैं, लेकिन हमारे पास बड़ा दिल है और हम सभी के साथ खुशी साझा करना चाहते हैं।' उन्होंने यह भी कहा कि कोविड-19 संकट को देखते हुए उनकी सरकार ने पत्रकारों के लिए भी 10 लाख रुपये के बीमा का प्रावधान किया है।

ममता ने कहा कि हमारी सरकार हर साल सरकारी कर्मचारियों आदि को दुर्गा पूजा व ईद के मौके बोनस राशि प्रदान करती है। इस बार हमने पत्रकारों को भी बोनस देने का फैसला किया है। इससे पहले पत्रकारों को कभी बोनस नहीं दिया जाता था।

ADVERTISEMENT