कलकत्ता उच्च न्यायालय ने विश्व भारती विश्वविद्यालय में हुई हिंसा को लेकर रिपोर्ट तलब की


कलकत्ता उच्च न्यायालय ने विश्व भारती विश्वविद्यालय परिसर में पिछले महीने हुई हिंसा के संबंध में अधिकारियों से रिपोर्ट तलब की। मुख्य न्यायाधीश टीबीएन राधाकृष्णन और न्यायमूर्ति शम्पा सरकार की खंडपीठ ने विश्वविद्यालय, श्रीनिकेतन शांतिनिकेतन विकास प्राधिकरण और पश्चिम बंगाल सरकार को 16 सितंबर तक शपथपत्र के रूप में अपनी रिपोर्ट दाखिल करने का निर्देश दिया।

चहारदीवारी बनाए जाने को लेकर केंद्रीय विश्वविद्यालय परिसर में 17 अगस्त को भीड़ द्वारा की गई तोड़-फोड़ के मामले में सीबीआइ जांच का अनुरोध करने वाली जनहित याचिका पर अगली सुनाई 18 सितंबर के लिए सूचीबद्ध की गई। बीरभूम जिले में 'पौष मेला मैदान' में दीवार बनाने का विरोध कर रही भीड़ ने विश्वविद्यालय की संपत्ति को नुकसान पहुंचाया था।

कोलकाता तथा जादवपुर की राह पर बर्दवान विवि भी

कलकत्ता विश्वविद्यालय तथा जादवपुर विश्वविद्यालय की तर्ज पर बर्दवान विश्वविद्यालय ने भी निर्णय लिया है कि परीक्षार्थी अपने घर पर किताब खोलकर स्नातक और स्नातकोत्तर के अंतिम वर्ष की परीक्षा दे सकते हैं। परीक्षा 1 से 18 अक्टूबर के बीच समाप्त होगी। ई-मेल या वॉट्सएप द्वारा प्रश्न प्राप्त करने के 24 घंटे के भीतर जवाब ऑनलाइन या फिर कॉलेज व विश्वविद्यालय जाकर उत्तर पुस्तिका जमा कर सकते हैं। कॉलेज के प्रोफेसर जहां छात्रों को पढ़ा रहे हैं, वे उनका मूल्यांकन करेंगे। परिणाम 31 अक्टूबर तक घोषित कर दिया जाएगा।

बर्दवान विश्वविद्यालय की फैकल्टी काउंसिल की बैठक में इसका निर्णय किया गया। इसके तहत प्रश्न पत्र वॉट्सएप या ई-मेल के माध्यम से छात्रों को भेजे जाएंगे और परीक्षार्थी घर पर बैठक कर ही परीक्षा देंगे और 24 घंटे के भीतर ऑनलाइन या फिर कॉलेज-विश्वविद्यालय जाकर अपनी उत्तर पुस्तिका जमा करने होंगे। 

ADVERTISEMENT