कोरोना महामारी के बीच कोलकाता में शुरू हुई दुर्गापूजा की तैयारियां, अगस्त के अंत में होगा पंडाल निर्माण का कार्य


कोरोना महामारी के बीच कोलकाता में दुर्गापूजा की तैयारियां शुरू कर दी हैं। इस बाबत एक इवेंट प्लानर की नियुक्ति की गई है। अगस्त के अंत में खूंटी पूजा के साथ उत्तर कोलकाता के अविनाश कविराज स्ट्रीट में पंडाल का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। देह व्यापार से जुड़े संगठन दुर्बार महिला समन्वय कमेटी की एडवोकेसी ऑफिसर महाश्वेता मुखर्जी ने बताया-'पहले हमने इस साल दुर्गापूजा का आयोजन नहीं करने का फैसला किया था लेकिन कुछ दिन पहले हुई बैठक में छोटे पैमाने पर पूजा करने का निर्णय लिया गया। इस बार हमारी प्रतिमा की ऊंचाई सिर्फ चार फुट होगी। पंडाल भी बहुत छोटा बनेगा। यह आठ बाई 12 फुट जगह पर होगा। बजट भी बहुत कम रखा गया है, जो 50 हजार रुपये के आसपास है। शारीरिक दूरी के नियम का पालन करने के लिए हम इस बार घर-घर जाकर चंदा संग्रह नहीं करेंगे। पूजा का पूरा खर्च दुर्बार वहन करेगा।'

दुर्बार दुर्गोत्सव कमेटी की सचिव काजल बोस ने बताया 'हमारी 10 लोगों की टीम है, जो पूजा का सारा कामकाज देखती है। हम मां दुर्गा से यही प्रार्थना करेंगे कि इस महामारी का जल्द से जल्द अंत हो और पूरी दुनिया अपने स्वाभाविक लय में लौट आए। हम उनसे देह व्यापार में जुड़े लोगों के लिए भी मंगल कामना करेंगे।'

शारीरिक दूरी बनाए रखने के निर्देश

पूजा कमेटी से जुड़े रतन दोलुई ने बताया 'पूजा पंडाल के जरिए कोरोना से बचने का संदेश दिया जाएगा। पंडाल में शारीरिक दूरी बनाए रखने, मास्क पहनने, सैनिटाइजर का इस्तेमाल करने का संदेश लिखे पोस्टर लगाए जाएंगे। पूजा के दिनों में हम मास्क व सैनिटाइजर का भी वितरण करेंगे। इसके साथ ही लोगों को कपड़े बांटे जाएंगे।' 

इवेंट प्लानर तापस घोष ने बताया 'लॉकडाउन से पहले पूजा को लेकर हमने काफी कुछ सोचा था। थीम पंडाल  व थीम सांग की परिकल्पना थी लेकिन अब नए सिरे से सारी प्लानिंग की जा रही है। प्रतिमा का निर्माण सनातन पाल नामक मूर्तिकार कर रहे हैं।' गौरतलब है कि देह व्यापार से जुड़े लोग 2013 से  दुर्गापूजा का आयोजन करते आ रहे हैं।

ADVERTISEMENT