विकास दुबे के दो और साथी ढेर, कानपुर में प्रभात तो इटावा में रणबीर का एनकाउंटर


कानपुर शूटआउट के मुख्य आरोपी विकास दुबे के करीबी रणबीर शुक्ला और प्रभात मिश्रा को पुलिस ने एनकाउंटर में ढेर कर दिया है. प्रभात मिश्रा को पुलिस ने फरीदाबाद के होटल से गिरफ्तार किया था. बताया जा रहा है कि प्रभात पुलिस की कस्टडी से भाग रहा था. इसके बाद एनकाउंटर में प्रभात को मार गिराया गया.

इसके अलावा इटावा में विकास दुबे के करीबी रणबीर शुक्ला को मार गिराया गया है. पुलिस के मुताबिक, रणबीर शुक्ला ने देर रात महेवा के पास हाईवे पर स्विफ्ट डिजायर कार को लूटा था. उसके साथ तीन और बदमाश थे. पुलिस को लूट की जैसे ही खबर मिली, पुलिस ने चारों को सिविल लाइन थाने के काचुरा रोड पर घेर लिया.

एनकाउंटर में रणबीर शुक्ला ढेर

पुलिस और रणबीर शुक्ला के बीच फायरिंग शुरू हो गई. इस फायरिंग के दौरान रणबीर शुक्ला को ढेर कर दिया गया. हालांकि, उसके तीनों साथी भागने में कामयाब रहे. इटावा पुलिस ने आस-पास के जिले को अलर्ट कर दिया है. रणबीर शुक्ला पर पुलिस ने 50 हजार का इनाम रखा था. वह भी कानपुर शूटआउट का एक आरोपी था.

कैसे मारा गया प्रभात मिश्रा

वहीं, प्रभात मिश्रा के एनकाउंटर के बारे में बताते हुए आईजी मोहित अग्रवाल ने कहा कि पुलिस टीम प्रभात को लेकर फरीदाबाद से आ रही थी. रास्ते में गाड़ी पंचर हो गई. इस दौरान प्रभात ने पुलिस का हथियार छीनकर भागने की कोशिश की. इसके बाद हुए एनकाउंटर में प्रभात मारा गया है. कुछ सिपाही घायल हुए हैं.

कैसे पकड़ा गया था प्रभात

पुलिस को खबर मिली थी कि फरीदाबाद के एक होटल में विकास दुबे छिपा हुआ है. इसके बाद पुलिस टीम ने होटल में छापेमारी की थी. वहां विकास दुबे नहीं मिला था, लेकिन प्रभात मिश्रा और दो अन्य पकड़े गए थे. प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि होटल से फायरिंग की आवाज सुनाई दी थी.

प्रभात मिश्रा के पास से पुलिस ने चार असलहे बरामद किए थे. इसमें दो सरकारी असलहे थे, जिन्हें 2 जुलाई की रात को आठ पुलिसकर्मियों की निर्मम हत्या के बाद छीना गया था. यूपी पुलिस की टीम देर रात प्रभात मिश्रा को कानपुर ला रही थी. तभी वह भागने की कोशिश करने लगा. पुलिस ने एनकाउंटर में प्रभात को मार गिराया.

कल मारा गया था अमर दुबे

इससे पहले पुलिस ने विकास दुबे के दाहिने हाथ अमर दुबे को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था. पुलिस को खबर मिली थी कि अमर दुबे, हमीरपुर जिले में छिपा है. इसके बाद एनकाउंटर में अमर दुबे को मार गिराया गया था. उस पर 50 हजार रुपये का इनाम था. पुलिस ने उसके पास से ऑटोमेटिक असलहा बरामद किया था.

ADVERTISEMENT