शिक्षामंत्री के रामचरितमानस पर दिए बयान से गठबंधन सरकार की बढ़ी मुश्किलें


बिहार में महागठबंधन सरकार के भविष्य को लेकर कयासों को दौर चल रहा है. शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर के रामचरितमानस पर दिए बयान के बाद अचानक जदयू के कई नेताओं ने राजद पर तंज कसना शुरू कर दिया है. जेडीयू के वरिष्ठ नेता उपेंद्र कुशवाहा ने तो राजद पर बीजेपी के साथ मिलीभगत तक का आरोप लगा दिया. इस पूरे सियासी ड्रामे के बीच अब तेजस्वी यादव ने इसे बीजेपी का एजेंडा करार देकर तमाम अटकलों पर विराम लगाने की कोशिश की है.

बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव मामले में लगातार सफाई दे रहे हैं. तेजस्वी भले ही सब ठीक होने का दावा कर रहे हों मगर बीजेपी की ओर से शिक्षा मंत्री के बहाने राजद पर हमले जारी हैं. बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि बिहार के शिक्षामंत्री का बयान जानबूझ का दिया गया बयान है. इस बयान को राजद पार्टी का भी समर्थन प्राप्त है. बिहार के उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने पटना में मीडिया से बात करते हुए कहा, 'महागठबंधन टूटने का सवाल ही पैदा नहीं होता है. कौन क्या कह रहा है नहीं कह रहा है यह सवाल नहीं है, मुद्दे की बात होनी चाहिए.'

तेजस्वी ने कहा कि महागठबंधन लालू प्रसाद यादव नीतीश कुमार ने बनाया है इसीलिए शीर्ष नेतृत्व लालू यादव नीतीश कुमार जी हैं. उन्होंने कहा कि राजद सभी धर्मों और सभी लोगों का सम्मान करती है और करती रहेगी. भारतीय जनता पार्टी कुछ भी कर ले महागठबंधन एकजुट है और एकजुट रहेगा. उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में भारतीय जनता पार्टी के दो बड़े नेता बिहार आए थे और उन्होंने कुछ लोगों को ट्रेनिंग दी है. आजकल एक एजेंडा चला हुआ है उस एजेंडे का कोई मतलब नहीं है!