चिराग पासवान पर पशुपति पारस का बड़ा हमला, बोले- हाजीपुर से आशीर्वाद नहीं जमुई से श्रद्धांजलि यात्रा निकालें

बिहार में लोक जनशक्ति पार्टी का अंदरुनी विवाद पांच जुलाई से और जोर पकड़ने की उम्‍मीद है। अपने पिता और पार्टी के संस्‍थापक राम विलास पासवान की जयंती के बहाने बिहार आ रहे चिराग पासवान उसी दिन हाजीपुर से आशीर्वाद यात्रा शुरू करेंगे। इस बीच उनके चाचा और पार्टी में एक गुट के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पशुपति कुमार पारस ने भतीजे पर तीखा हमला किया है। उन्‍होंने कहा कि चिराग किस बात के लिए आशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं। उन्‍हें तो श्रद्धांजलि यात्रा निकालनी चाहिए। पारस ने कहा कि चिराग का संसदीय निर्वाचन क्षेत्र जमुई है। इसलिए उन्‍हें हाजीपुर की बजाय जमुई जाना चाहिए।

पिता की जयंती के बहाने चाचा पर हमला बोलेंगे चिराग

आशीर्वाद यात्रा में चिराग अपने पिता की जयंती के बहाने चाचा पर हमला बोलने की तैयारी में हैं। इसके लिए उनकी टीम पटना से लेकर हाजीपुर और राज्‍य के अलग-अलग जिलों में तैयारी में जुटी है। चिराग का कहना है कि कोई भी उनकी पार्टी को नहीं तोड़ पाता, अगर घर के लोगों ने दगाबाजी नहीं की होती। चिराग ने पिछले दिनों कहा कि उनकी पार्टी और परिवार में जो कुछ हो रहा है, उसे देख कर उनके पिता की आत्‍मा खुश नहीं होगी। चिराग ने कहा कि पिता की मौत के एक साल भी पूरे नहीं हुए और घर के लोगों ने उनके सपनों पर पानी फेर दिया।

भाजपा से मदद की उम्‍मीद लगाए हैं चिराग

मुश्किल वक्‍त में चिराग को अब भी उम्‍मीद है कि भाजपा उनकी मदद के लिए आगे आएगी। इसके लिए वे लगातार कोशिश कर रहे हैं और कई बार उन्‍होंने साफ तौर पर इसे जाहिर भी किया है। चिराग ने कहा था कि हनुमान का राजनीति वध होते देख कर राम चुप नहीं बैठेंगे। यही वजह है कि राजद की ओर से डायरेक्‍ट निमंत्रण मिलने के बाद भी चिराग अभी तटस्‍थ बने हुए हैं।