गृह मंत्रालय ने हटाई मुकुल रॉय की सुरक्षा, केंद्र ने वापस लिया गया Z-कैटेगरी का वीआइपी सुरक्षा घेरा

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) छोड़कर तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में गए नेता मुकुल रॉय की सुरक्षा को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने वापस ले लिया है। केंंद्र सरकार ने  मुकुल रॉय का जेड-श्रेणी का सुरक्षा कवच वापस ले लिया है।  उनकी सुरक्षा को हटाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक, टीएमसी नेता मुकुल रॉय की सुरक्षा हटाने को लेकर गृह मंत्रालय ने आदेश कल ही जारी कर दिया गया था। सरकारी सूत्रों के अनुसार, सुरक्षा वापस लेने का आदेश कल जारी किया गया था और फिलहाल सीआरपीएफ सुरक्षा वापस लेने की प्रक्रिया में है। मुकुल रॉय के बेटे सुभ्रांशु की केंद्रीय सुरक्षा पिछले शनिवार को ही वापस ले ली गई थी।

मुकुल रॉय ने टीएमसी में शामिल होने के बाद शनिवार को गृह मंत्रालय को पत्र लिखकर अपनी सीआरपीएफ सुरक्षा वापस लेने के लिए कहा था। जिसके बाद कल गृह मंत्रालय ने उनकी सुरक्षा वापस लेने का आदेश जारी किया है। उन्हें पिछले शुक्रवार से बंगाल सरकार द्वारा वाई ग्रेड सुरक्षा प्रदान की गई है।

मुकुल के बेटे की केंद्र ने वापस ली सुरक्षा

भाजपा से तृणमूल में गए मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय की सुरक्षा हटाई जा चुकी है। केंद्र सरकार के निर्देश पर केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की ओर से मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांशु रॉय को दी गई सुरक्षा वापस ले ली गई है। बता दें कि 2017 में तृणमूल से भाजपा में आने के बाद रॉय को केंद्रीय सुरक्षा कवच प्रदान किया गया था।

तृणमूल में भी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बन सकते हैं मुकुल रॉय

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए तृणमूल जिस तरह की रणनीति बना रही है, उसमें मुकुल की बड़ी जिम्मेदारी होगी। इससे पहले भी वह तृणमूल कांग्रेस में रहते हुए दूसरे राज्यों की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। भाजपा में मुकुल रॉय को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की ही जिम्मेदारी दी गई थी।