और मजबूत हुई भारतीय वायुसेना, 6 टन के लाइट बुलेट प्रूफ वाहनों को एयरबेस में किया गया शामिल

भारतीय वायुसेना ने अपनी एयरबेस की सुरक्षा बढ़ाने के लिए 6 टन के लाइट बुलेट प्रूफ वाहनों को शामिल किया है। ये किसी भी प्रकार की गोली और ग्रेनेड हमलों का सामना कर सकते हैं और किसी भी आतंकवादी हमले का मुकाबला करने में मदद करेंगे। ये बुलेट प्रूफ वाहन 6 गरुड़ कमांडो/ क्विक रिएक्शन टीम के सदस्यों को ले जा सकते हैं।

वहीं, दूसरी ओर इसी महीने के शुरुआती हफ्ते में राफेल लड़ाकू विमानों की चौथी खेप भारत पहुंची थी। राफेल विमानों की इस खेप से भारतीय वायुसेना की ताकत और बढ़ गई है। फ्रांस से उड़ान भरने के बाद बिना कहीं रुके तीनों लड़ाकू विमान भारत पहुंचे थे। रास्ते में UAE वायुसेना की मदद से इनमें हवा में ही री-फ्यूलिंग की गई थी।

बता दें कि फ्रांस और भारत के बीच 36 राफेल विमानों का करार हुआ है। हाल ही में आई समाचार एजेंसी एएनआइ की एक रिपोर्ट के मुताबिक जल्‍द वायु सेना के बेड़े में और सात राफेल लड़ाकू विमान शामिल हो जाएंगे। इनके आने से वायु सेना में राफेल विमानों की संख्या 21 हो जाएगी। इससे राफेल विमानों के दूसरे स्क्वाड्रन के गठन का रास्ता भी साफ हो जाएगा। ये सभी अंबाला में मौजूद वायुसेना के गोल्डन एरो स्कावड्रन का हिस्सा हैं।