Bengal Chunav: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा- बंगाल चुनाव मोदी के ‘‘विकास’’ और ममता के विनाश’’ मॉडलों के बीच मुकाबला


केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को ‘‘विफल प्रशासक’’ बताया और कहा कि राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव नरेंद्र मोदी के ‘‘विकास मॉडल’’ और तृणमूल कांग्रेस के ‘‘विनाशकारी मॉडल’’ के बीच मुकाबला होगा।

बंगाल के लोगों को तय करना है कि उन्हें क्या चाहिए। शाह ने कहा कि भाजपा की ‘परिवर्तन यात्रा’ एक मुख्यमंत्री, विधायक या मंत्री बदलने के लिए नहीं, बल्कि घुसपैठ खत्म करने और पश्चिम बंगाल की स्थिति बदलने के लिए है। उत्तर बंगाल के कूचबिहार में भाजपा की चौथी परिवर्तन यात्रा को हरी झंडी दिखाने से पहले एक रैली को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि यात्रा का उद्देश्य ‘‘बुआ-भतीजा’’ द्वारा संरक्षित भ्रष्टाचार को समाप्त करना भी है।

भाजपा बनर्जी और उनके भतीजे एवं डायमंड हार्बर से लोकसभा सदस्य अभिषेक पर ‘‘भ्रष्टाचार को संस्थागत करने’’ का आरोप लगाती रही है। शाह भाजपा कार्यकर्ताओं की राजनीतिक हत्या के बारे में भी बोले और चेतावनी देते हुए उन्होंने कहा कि इसके लिए जिम्मेदारों को सलाखों के पीछे डाला जाएगा।

सिर्फ मुख्यमंत्री, विधायक या मंत्री बदलने के लिए नहीं है परिवर्तन यात्रा

शाह ने विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा द्वारा निकाली जा रही पांच ‘परिवर्तन यात्राओं’ में से चौथी यात्रा को हरी झंडी दिखाने से पहले एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘यह यात्रा एक मुख्यमंत्री, विधायक या मंत्री बदलने के लिए नहीं है।यह घुसपैठ समाप्त करने के लिए है, यह बंगाल के परिवर्तन के लिए है। आप बंगाल में भाजपा को वोट देकर सत्ता में लायें। अवैध घुसपैठिए को तो छोड़िये, सीमा पार से एक भी पक्षी को भी राज्य में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।’’

भाजपा तृणमूल के ‘‘गुंडों’’ का मुकाबला करने के लिए तैयार है

केंद्रीय गृहमंत्री ने आगे कहा कि भाजपा सत्तारूढ़ तृणमूल के ‘‘गुंडों’’ का मुकाबला करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, ‘‘आपको लगता है कि हम तृणमूल कांग्रेस के गुंडों से भयभीत हो सकते हैं? वे भाजपा को सत्ता में आने से नहीं रोक सकते हैं। एक बार हमारे सत्ता में आने पर उस हिंसा को भड़काने के जिम्मेदार लोगों को सलाखों के पीछे डाला जाएगा, जिसके चलते भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या हुई।’’

विधानसभा चुनाव खत्म होने तक ममता बनर्जी खुद जय श्रीराम कहना शुरू कर देंगी

उन्होंने आरोप लगाया कि ममता बनर्जी जय श्रीराम के नारे पर गुस्सा करती हैं, लेकिन विधानसभा चुनाव खत्म होने तक वह खुद यह कहना शुरू करना शुरू कर देंगी।उन्होंने कहा, ‘‘अगर भारत में जय श्री राम का नारा नहीं लगाया जाएगा, तो क्या पाकिस्तान में लगाया जाएगा? आप इस पर नाराज इसलिए होती हैं, क्योंकि आप वोट बैंक की राजनीति के लिए एक खास वर्ग के लोगों को खुश करना चाहती हैं।’’ शाह ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी सरकार के ‘‘विकास मॉडल’’ और ममता बनर्जी के ‘‘विनाशकारी मॉडल’’ के बीच मुकाबला होगा। गृह मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार ‘‘जन कल्याण’’ के लिए काम करती है, ममता बनर्जी को केवल ‘‘भतीजा कल्याण’’ की चिंता है। 

ADVERTISEMENT