बिहार के पहले सीएम के बारे में तेजस्‍वी यादव को जानकारी नहीं, मांझी ने खूब खिल्‍ली उड़ाई


नेता प्रतिपक्ष व बिहार के पूर्व डिप्‍टी सीएम तेजस्‍वी यादव (leader of opposition and Ex Deputy CM Tejashwi Yadav) के ट्वीट पर आज बिहार में बड़ा बवाल खड़ा हो गया । दरअसल, तेजस्‍वी ने आज सुबह बिहार के प्रथम मुख्‍यमंत्री डाॅ श्री कृष्‍ण सिन्‍हा (First CM of Bihar Dr. Sri Krishna Sinha) की पुण्‍य तिथि पर उन्‍हें नमन करते हुए एक ट्वीट किया। उसमें उन्‍होंने श्रीकृष्‍ण सिन्‍हा की जगह डॉ अनुग्रह नारायण सिन्‍हा (Dr. Anugrah Narayan Sinha) की तस्‍वीर लगा दी। ट्वीट को रिट्विट किया जाने लगा । करीब 273 लोगों ने इसे रिट्वीट भी कर दिया। इसके बाद पूर्व मुख्‍यमंत्री और हम के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जीतन राम मांझी ने तेजस्‍वी की बिहारी अंदाज में '  खूब खिल्‍ली उड़ाई। जदयू नेताओं ने इसे बिहार के पहले मुख्‍यमंत्री श्री बाबू का अपमान बताकर जमकर भड़ास निकाली । इस ट्वीट पर तेजस्‍वी यादव खूब ट्रोल भी हो रहे हैं।

मांझी ने लिखा- भद्द पिटवा लिया

जीतनराम मांझी ने तेजस्वी यादव पर बिहारी अंदाज में हमला बोला। ट्वीट कर कहा-'हई देखिए... अब जेकरा ई नहीं पता है कि श्रीकृष्ण बाबू कउन हैं, उहो खुद को बिहार के नेता बुझने लगे हैं। तेजस्वी यादव बाबू अगर आपको बिहार के विभूतियों की जानकारी नहीं है तो हम आपको सबका फोटो भेज देते हैं। आगे से फोटो देखकर ही कुछ चीं-चीं कीजिएगा। भद्द पिटवा लिहिस लड़का...।'

नीरज ने किया जोरदार हमला

जदयू नेता नीरज कुमार ने तो तेजस्‍वी के जनरल नॉलेज पर भी सवाल उठाया। कहा - कि तेजस्‍वी बिहार विधान सभा में महागठबंधन के सीएम कैंडिडेट थे , मगर उन्‍हें श्री बाबू जैसे बिहार की महान हस्‍ती के बारे में जानकारी तो दूर उनकी तस्‍वीर की भी पहचान नहीं है। वे यहीं नहीं रूके। उनके ज्ञान के बारे में खूब खरी-खोटी सुनाई। नीरज कुमार ने कहा कि तेजस्‍वी यादव ने अज्ञानता का तांडव मचाया है। यह भाड़े के ज्ञान का विस्फोट है। कहा कि राजनैतिक पर्यटक बिहार के महापुरुषों के बारे में नहीं जान सकते हैं। लालू परिवार तो भ्रष्टाचारियों और जेल में बंद अपराधियों को ही जान सकता है।

राजद प्रवक्‍ता ने दी  सफाई

मामले ने जब तूल पकड़ लिया तो राजद की ओर से भी सफाई आई है। राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने इसे तकनीकी भूल करार दिया और कहा कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव खुद ग्राफिक्स नहीं बनाते हैं। उनके ट्वीट के लिए जिसने ग्राफिक्स डिजाइन की है, उससे गलती हुई है। जो इस भूल को मुद्दा बना रहे हैं, उन्हें तेजस्वी यादव की भावना को देखना चाहिए। सीएम नीतीश कुमार ने श्रीबाबू को याद नहीं किया। किंतु तेजस्वी ने याद किया तो जदयू को नागवार गुजर रहा है।

पहले डिप्‍टी सीएम थे अनुग्रह बाबू

बता दें कि ट्वीट में डॉ अनुग्रह नारायण सिन्‍हा की तस्‍वीर लगी है। वे 'बिहार विभूति' के नाम से जाने जाते हैं। वे बिहार के पहले डिप्‍टी सीएम और वित्‍त मंत्री थे। उनके छोटे पुत्र सत्‍येंद्र नारायण सिन्‍हा बाद में बिहार के मुख्‍यमंत्री बने थे। उन्‍होंने 1917 में सत्‍याग्रह आंदोलन के समय गांधी जी के काॅल पर अपनी वकालत की प्रैक्टिस छोड़ स्‍वाधीनता संग्राम में कूद पड़े थे।

बिहार के पहले सीएम थे श्री बाबू

डॉ श्री कृष्‍ण सिन्‍हा  आम जनसभाओं के दौरान अपने भाषण में शेर जैसी दहाड़ के कारण 'बिहार केसरी' के नाम से विख्‍यात थे। वे बिहार के प्रथम मुख्‍यमंत्री थे। 1936 से (दूसरे विश्‍व युद्ध के समय को छोड़कर) कांग्रेस के पहले मिनस्‍ट्री से ही 1961 में अपनी मृत्‍यु तक बिहार के सीएम रहे। वे देश के पहले सीएम थे, जिन्‍होंने जमींदारी प्रथा को खत्‍म किया। उन्‍होंने ही देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर में सर्वप्रथम दलितों का प्रवेश कराया। इसके पहले मंदिर में दलितों का प्रवेश निषेध था ।

ADVERTISEMENT