अमेरिका के नए विदेश मंत्री ने भारत से मांगा सहयोग, कहा- पहले की तरह मजबूती से बढ़ेंगे आगे

अमेरिका के नए विदेश मंत्री के तौर पर नामित किए गए एंटोनी ब्लिंकेन ने कहा है कि भारत और अमेरिका में साथ काम करने की मजबूत इच्‍छा शक्ति है। उन्‍होंने ये भी कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अक्षय ऊर्जा और तकनीक के जबरदस्‍त समर्थक हैं। आपको बता दें कि विदेश मंत्री के तौर पर उनके नाम पर सीनेट फोरन रिलेशन कमेटी ने मुहर लगा दी है। उन्‍होंने ये भी कहा है कि भारत और अमेरिका के साथ काम करने के और भी कई कारण और रास्‍ते हैं।

ब्लिंकेन ने कहा कि भारत ने अमेरिका की विभिन्‍न सरकारों के साथ बेहद करीब और बेहद मजबूती के साथ काम किया है। चाहे वो बिल क्लिंटन की सरकार रही हो या फिर बराक ओबामा की और या फिर डोनाल्‍ड ट्रंप की। सभी में अमेरिका को भारत से पूरा सहयोग मिलता रहा है। उन्‍होंने उम्‍मीद जताई है कि भारत सरकार का ये सहयोग बाइडन प्रशासन को भी पहले की ही तरह से मिलता रहेगा। उनके मुताबिक अमेरिका में इंडो-पेसेफिक के मुद्दे पर भारत के साथ आगे बढ़ना चाहता है। दोनों ही देश बेहतर तालमेल के लिए एक दूसरे के ऊपर निर्भर हैं। ट्रंप प्रशासन में दोनों ही देशों ने सूचनाओं के आदान-प्रदान का जो सिलसिला शुरू किया वो आगे भी जारी रहेगा। उन्‍होंने ये भी कहा कि वो भारत के साथ चीन से भी सहयोग की अपेक्षा रखता है।

उन्‍होंने आतंकवाद को बड़ी चुनौती मानते हुए कहा कि इसको जड़ से खत्‍म करने में वो सभी देशों की मदद करेगा। इसके अलावा जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर भी पूरी तरह से सजगता बरतेगा। उन्‍होंने कहा कि अक्षय ऊर्जा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काफी समय से वकालत करते रहे हैं। ऐसे में दोनों देशों के साथ काम करने की क्षमता भी अधिक है। आपको बता दें कि बुधवार 20 जनवरी 2021 को जो बाइडन अमेरिका के 46वें राष्‍ट्रपति के तौर पर शपथ ग्रहण करने वाले हैं। ऐसे में ब्लिंकेन का नया सफर शुरू होने में बेहद कम समय ही बचा है।

ADVERTISEMENT