जनवरी से कोरोना वैक्सीन लगाना शुरू करेगा इटली, फाइजर के साथ 34 लाख डोज की डील


इटली अपने लोगों को जनवरी से कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाना शुरू कर देगा। कोरोना वायरस आपातकाल के लिए इटली के विशेष अयुक्त ने बताया कि जो लोग वैक्सीन लगावाना चाहते हैं उन सभी लोगों को अगले साल सितंबर तक इसकी डोज मिल जाएगी।

विशेष आयुक्त डोमेनिको अर्कुरी ने कहा कि यूरोपीय संघ के खरीद कार्यक्रम के माध्यम से जनवरी के मध्य तक फाइजर वैक्सीन की 3.4 मिलियन (34 लाख) खुराक मिल जाएगी, जो इटली के 6 कोरोड़ लोगों में से 16 लाख लोगों को वैक्सीन की दो खुराक देने के लिए प्रयाप्त है। उन्होंने कहा कि बुजुर्ग लोगों और ज्यादा जोखिम वाले व्यक्तियों को पहले प्राथमिकता दी जाएगी।

रोम में एक समाचार सम्मेलन के दौरान अर्कुरी ने कहा, 'यह वैक्सीन देने का सबसे बड़ा अभियान होगा, जिसे सिर्फ इटली में ही नहीं बल्कि पूरे यूरोप और दुनिया के कई हिस्सों में याद किया जाएगा।' आयुक्त ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि जनवरी में मिलने वाली वैक्सीन के लिए यूरोपीय मेडिकल एजेंसी से फाइजर का प्राधिकरण समय से पूरा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि वह कोरोनो वायरस के खिलाफ अन्य वैक्सीन को मंजूरी मिलने की उत्सुकता से प्रतीक्षा कर रहे है, ताकि उसे सभी इटालियंस को प्रदान किया जा सके।

अर्कुरी ने कहा, 'हम नहीं जानते हैं कि कितने लोग वैक्सीन लगवाना चाहते हैं। हमारी आबादी के एक महत्वपूर्ण हिस्से को साल की पहली छमाही में या तीसरे तिमाही के अंत तक किसी भी कीमत पर टीका लगा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय की सिफारिशों के आधार पर सरकार संसद को सूचित करेगी जिसमें विभिन्न श्रेणियों के नागरिकों को खुराक दी जानी है।

इटली में वैक्सीन लगाने के लिए आवश्यक सीरिंज और सुइयों के लिए शुक्रवार को बोली प्रक्रिया खोलने की योजना बनाई गई है। वैक्सीन लगाने के लिए तीन प्रकार की सीरिंज और कम से कम छह प्रकार की सुइयों की आवश्यकता होती है। ब्रिटेन के बाद यूरोप में इटली में कोरोना महामारी की वजह से 47,800 से अधिक लोगों की मौत हो चुकि है।


ADVERTISEMENT