राज्यपाल से मिला भाजपा प्रतिनिधिमंडल, भाजपा कार्यकर्ता मदन घोराई की मौत की सीबीआइ जांच की मांग

पूर्व मेदिनीपुर जिले में भाजपा कार्यकर्ता मदन घोराई की कथित तौर पर पुलिस हिरासत में मौत की सीबीआइ से जांच कराने की मांग को लेकर प्रदेश भाजपा के एक प्रतिनिधिमंडल ने रविवार शाम में राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की।

मृतक मदन के भाई स्वपन घोराई के साथ प्रदेश भाजपा की महासचिव व सांसद लॉकेट चटर्जी, प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष व सांसद अर्जुन सिंह, भाजपा के कानून प्रकोष्ठ के प्रभारी अधिवक्ता ब्रजेश झा व राज्य कमेटी के सदस्य शंकुदेव पांडा ने राज्यपाल से मुलाकात की और इस मामले की सीबीआइ से जांच कराने की मांग को लेकर उन्हें एक ज्ञापन सौंपा। मुलाकात के बाद भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने कहा कि भाजपा कार्यकर्ताओं को डराया धमकाया जा रहा है। उन्हें मार दिया जा रहा है। पहले पुलिस की मदद से हत्या होती थी, लेकिन अब पुलिस हिरासत में ही हत्या कर दी जा रही है। उन्होंने कहा कि इस मामले की सीबीआइ जांच को लेकर उन लोगों ने राज्यपाल से हस्तक्षेप का अनुरोध किया है। उन्होंने साथ ही कहा कि राज्य प्रशासन मृतक का पोस्टमार्टम करने में भी बाधा दे रहा है। एम्स में मृतक का पोस्टमार्टम कराया जाये।

बता दें कि मदन का शव अस्पताल के शवगृह में ही रखा हुआ है‌। वहीं, लॉकेट चटर्जी ने कहा कि विरोध करने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी जा रही है। यह शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि पटासपुर में भाजपा कार्यकर्ता मदन ताश खेल रहे थे। तभी पुलिस उन्हें पकड़ ले गई। उसके खिलाफ कोई मामला दायर नहीं था, फिर भी पुलिस हिरासत में उसकी इतनी पिटाई की गई कि उसकी मौत हो गयी।उन्होंने कहा कि मदन का परिवार व भाजपा चाहती है कि पूरे मामले की सीबीआइ से जांच हो, तभी सच सामने आ पायेगा और दोषियों को सजा मिलेगी। इसके बाद ही परिवार को लोगों को न्याय मिलेगा। उन्होंने कहा कि राज्य पुलिस के अधीन निष्पक्ष जांच की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। गौरतलब है कि इससे पहले इस घटना को लेकर रविवार को राज्यपाल ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र भी लिखा है। उन्होंने राज्य में मानवाधिकारों के उल्लंघन व पुलिस हिरासत में मौत पर गहरी चिंता जाहिर की है।

राज्यपाल से मुलाकात के दौरान बेहोश होकर गिर पड़े मृतक के भाई

मृतक भाजपा कार्यकर्ता मदन घोराइ के भाई स्वपन घोराई राज्यपाल से मुलाकात के दौरान बेहोश होकर गिर पड़े। राज्यपाल से मिलकर भाजपा प्रतिनिधिमंडल राजभवन परिसर की सीढ़ी के पास खड़ा था। राज्यपाल प्रतिनिधिमंडल को छोड़ने बाहर आये थे और स्वपन घोराई उनसे न्याय की फरियाद कर रहे थे। इसी दौरान वह बेहोश होकर गिर पड़े। भाजपा नेताओं ने स्वपन को अपनी गाड़ी में बिठा कर उन्हें कलकत्ता मेडिकल कॉलेज ले गए और डॉक्टरों को दिखाया गया। डॉक्टरों ने उन्हें दवाइयों के साथ आराम करने की सलाह दी है। भाजपा नेताओं ने कहा कि पिछले पांच दिनों से मदन घोराई का शव कोलकाता के आरजी कर अस्पताल के शवगृह में पड़ा हुआ है। पोस्टमार्टम करने नहीं दिया जा रहा है। इससे वह बहुत ही दुखी हैं। 


ADVERTISEMENT