पश्चिम बंगाल में 15 दिनों के अंदर 4 बार लॉकडाउन की तारीख में बदलाव, ममता पर बरसा विपक्ष


पश्चिम बंगाल सरकार ने राज्य में लागू लॉकडाउन में एक बार फिर से परिवर्तन किया है। इस बार एक दिन कम किए गए हैं। यह पांचवी बार है जब ममता सरकार ने लॉकडाउन में परिवर्तन किया है। वहीं अकेले पंद्रह दिनों में चार बार लॉकडाउन में बदलाव किया गया है। इस बार लॉकडाउन में एक दिन कम किए गए हैं, मतलब अब 28 अगस्त को लॉकडाउन नहीं होगा। ममता के इस फैसले पर विपक्ष ने उनकी आलोचना शुरू कर दी है।

ममता के इस फैसले पर कांग्रेस ने कहा है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को इस तरह बदलाव के फैसले लेने से पहले विशेषज्ञों की राय लेनी चाहिए। वहीं बीजेपी ने आरोप लगाया है कि ममता ने यह फैसला राजनीति से प्रेरित है। उन्होंने कहा कहा कि 28 जून को शुक्रवार है और ममता ने एक खास समुदाय को ध्यान में रखते हुए इस दिन से लॉकडाउन हटा लिया है।

27 और 28 का लॉकडाउन वापस
राज्य में अब 28 अगस्त को संपूर्ण लॉकडाउन नहीं होगा। मुख्य सचिव राजीव सिन्हा की ओर से बुधवार को एक आदेश जारी किया गया। इस आदेश में कहा गया है कि लॉकडाउन वापस लेने का फैसला कई जगह से आग्रह के बाद लिया गया। इन आग्रहों में महीने के अंतिम सप्ताह में दो दिन गुरुवार और शुक्रवार (27 और 28 अगस्त) को पूर्ण लॉकडाउन नहीं होगा। इसके बाद 31 अगस्त (सोमवार) को फिर संपूर्ण लॉकडाउन होना है।

अब पांच दिन का नहीं चार दिन का होगा लॉकडाउन
आदेश में 27 और 28 अगस्त को संपूर्ण लॉकडाउन की वजह से कारोबारी और बैंकिंग कामकाज में मुश्किल आने की बात कही गई है। सरकार के पूर्व के आदेश के अनुसार इन तीन दिनों में संपूर्ण लॉकडाउन होना था। राज्य में पूर्व के आदेश के अनुसार इस महीने पांच दिन का संपूर्ण लॉकडाउन होना था, जो अब चार दिन होगा। आदेश में कहा गया कि इस महीने संपूर्ण लॉकडान की तारीख अब 20, 21, 27 और 31 अगस्त होंगी। इस महीने के शुरू में पांच और आठ अगस्त को संपूर्ण लॉकडाउन रहा था।

बीजेपी नेता ने लॉकडाउन में बदलाव के बताए कारण
बीजेपी नेता राहुल सिन्हा ने कहा कि दो वजहों से ममता बनर्जी ने यह फैसला लिया है। एक राजनीतिक है और दूसरा सांप्रदायिक। 28 अगस्त को कांग्रेस के छात्र परिषद और के और तृणमूल छात्र परिषद के गठन की वर्षगांठ है। 29 को मुहर्रम है। इन दो कारणों से टीएमसी सराकर ने खास समुदाय को रिझाने के लिए इस दिन का लॉकडाउन हटाया है।

'डॉक्टर से संपर्क करें ममता'
कांग्रेस नेता अधीर चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लॉकडाउन की तारीखें घोषित करने से पहले डॉक्टरों से संपर्क करना चाहिए। इस तरह के लॉकडाउन की घोषणा और तारीखों में बदलाव से उद्देश्य पूरा नहीं होता। सीपीआई एम के नेता सुजान चक्र ने कहा लॉकडाउन एक गंभीर मामला है। कोरोना वायरस को रोकने के लिए इसे लगाना चाहिए लेकिन सरकार ने इसका मजाक बनाकर रख गया है।

ADVERTISEMENT