कोरोना से मारे गए लोगों के शवों का रात के अंधेरे में दाह संस्कार किए जाने को लेकर मचा बवाल


बंगाल के हुगली ज़िले के बांसबेड़िया इलाके में रात के अंधेरे में गंधेश्वरी घाट पर कोरोना से मरने वालों का दाह संस्कार किए जाने को लेकर स्थानीय लोगों ने जमकर हंगामा मचाया। परिस्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठी भी भांजनी पड़ी। तब जाकर पुलिस की देखरेख में कोरोना से मौत के शिकार हुए लोगों के शव का दाह संस्कार किया गया।

जानकारी के मुताबिक, सोमवार देर रात बांसबेड़िया स्थित गंधेश्वरी घाट पर जब कुछ लोग एक व्यक्ति के शव का दाह संस्कार करने पहुंचे, उसके पहले से ही स्थानीय लोगों ने घाट के समक्ष घेराव करके विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिए था। लोगों का आरोप है कि पिछले कुछ दिनों से रात के अंधेरे में गंधेश्वरी घाट पर कोरोना संक्रमित व्यक्ति के शवों का दाह संस्कार किया जा रहा है। गंगा के इस पार बड़ी संख्या में लोग निवास करते है। ऐसा करने से इलाके में भी कोरोना महामारी फैलने की आशंका के मद्देनजर लोगों में डर का माहौल है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि इस घाट पर बिजली के चूल्हे की भी व्यवस्था नही है। इसके बावजूद प्रशासन कोरोना से मरने वाले लोगों का शव लकड़ी से जला रही है। इधर, देर रात तक लोगों द्वारा प्रर्दशन किए जाने के बाद खबर पाकर मगरा थाने के साथ चुंचुड़ा पुलिस लाइन से बड़ी संख्या में पुलिस गंधेश्वरी घाट पहुंची। पहले पुलिस के आला अधिकारियों ने प्रर्दशन कर रहे लोगों को समझाने की कोशिश की। लेकिन अधिकारियों की एक ना सुनने के बाद पुलिस को लाठीचार्ज करके उन्हें वहां से खदेड़ना पड़ा। इसके बाद पुलिस की निगरानी में यहां पड़े शव का दाह संस्कार किया गया। 

ADVERTISEMENT