Rajsthan Political Crisis: राजस्थान फोन टेपिंग मामले में गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट


राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने फोन टेपिंग मामले में राज्य के प्रमुख सचिव से रिपोर्ट मांगी है। सूत्रों ने बताया कि मामले में गृह मंत्रालय ने राजस्थान के प्रमुख सचिव से रिपोर्ट तलब की है। भाजपा ने इसे निजता का हनन बताया था। केंद्र सरकार ने राजस्थान के मुख्य सचिव से इस मामले में रिपोर्ट तलब की। एक अधिकारी के मुताबिक गृह मंत्रालय ने मुख्य सचिव से कहा है कि गहलोत सरकार के खिलाफ कथित साजिश के सिलसिले में दो ऑडियो क्लिप सामने आने के बाद फोन टैपिंग के आरोपों को लेकर रिपोर्ट सौंपी जाए। राजस्थान पुलिस के एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने गहलोत सरकार के खिलाफ साजिश रचे जाने को लेकर दो ऑडियो क्लिप सामने आने के बाद भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है।

एसीबी के महानिदेशक आलोक त्रिपाठी ने कहा है कि कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी की शिकायत के आधार पर ब्यूरो ने मामला दर्ज किया है। एफआइआर में कांग्रेस के बागी विधायक भंवरलाल शर्मा और गजेंद्र सिंह तथा एक तीसरे व्यक्ति संजय जैन के बीच बातचीत का विवरण है। कांग्रेस का दावा है कि ये केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह हैं। बताया जा रहा है कि गृह मंत्रालय कथित रूप से लीक हुई ऑडियो बातचीत मामले पर कड़ी नजर रख रहा है, जिसकी राजस्थान पुलिस जांच कर रही है।

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि ऑडियो राजस्थान में गहलोत सरकार को गिराने के लिए संजय जैन के साथ भंवर लाल शर्मा की बातचीत की है। कथित बातचीत लगभग 30 विधायकों को लेकर है जिसमें भंवर लाल शर्मा और संजय जैन एक दूसरे से बात कर रहे हैं। इस ऑडियो क्लिप की जांच के लिए एसओजी की टीम मानेसर स्थित होटल पहुंची थी लेकिन वहां भंवरलाल शर्मा नहीं मिले।

भाजपा ने बताया था निजता का हनन

बता दें कि जिस टेप को लेकर कांग्रेस भाजपा का पर्दाफाश करने का दावा कर रही थी। भाजपा ने उस पर ही सवाल खड़े किए थे। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा था कि राजस्थान सरकार सबकी निजता का हनन कर रही है। जब राज्य में लोग कोरोना काल में वेंटिलेटर के लिए तरस रहे हैं तो कांग्रेस विधायक स्विमिंग पूल में स्विमिंग कर रहे हैं।

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि बताएं संजय जैन कौन है? हम इसे  झूठ मानते हैं। संबित पात्रा ने कहा कि क्या भाजपा ही सबकुछ कंट्रोल कर रही है? बिल्कुल नहीं, ये उनके पाप हैं। कांग्रेस घर में ही साजिश रची गई। हम लगातार कह रहे हैं कि ऑडियो टेप फर्जी है। संबित पात्रा ने फोन टेपिंग मामले में सीबीआई जांच की मांग की थी। उन्होंने कहा कि फोन टेपिंग मामले में सीबीआई जांच होनी चाहिए कि मानक प्रक्रिया का पालन किया गया था या नहीं।

ADVERTISEMENT