RIL को मिली बड़ी सफलता, डेडलाइन से 9 माह पहले कर्जमुक्त हुई कंपनी


मुकेश अंबानी की रिलायंस इडस्ट्रीज अब कर्जमुक्त कंपनी बन गई है. अहम बात ये है कि कंपनी ने डेडलाइन से करीब 9 महीने पहले ही इस लक्ष्य को हासिल कर लिया है.

1.69 लाख करोड़ रुपये जुटाया

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने बताया कि पिछले दो महीनों में राइट्स इश्यू और वैश्विक निवेशकों से रिकॉर्ड 1.69 लाख करोड़ रुपये जुटाने के बाद कंपनी का शुद्ध ऋण शून्य हो गया है. मुकेश अंबानी ने कहा, ‘‘ मैंने कंपनी के शेयरधारकों से किया वादा पूरा किया. रिलायंस का शुद्ध कर्ज 31 मार्च 2021 की तय अवधि से बहुत पहले शून्य हो गया है.’’

मुकेश अंबानी ने बताया कि पिछले 58 दिनों में रिलायंस इंडस्ट्रीज ने वैश्विक निवेशकों से 1.15 लाख करोड़ रुपये जुटाए हैं. कंपनी ने यह राशि अपने जियो प्लेटफॉर्म्स लिमिटेड में हिस्सेदारी बेचकर जुटायी है.

53,124.20 करोड़ राइट्स इश्यू से जुटाए

वहीं रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 53,124.20 करोड़ रुपये राइट्स इश्यू जारी करके जुटाए हैं. रिलायंस इंडस्ट्रीज की ओर से जारी बयान के मुताबिक पिछले साल ईंधन कारोबार में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी ब्रिटेन की बीपी को 7,000 करोड़ रुपये में बेचने और हाल में हासिल निवेश से कंपनी ने कुल 1.75 लाख करोड़ रुपये की राशि जुटायी है. आपको बता दें कि रिलायंस पर 31 मार्च 2020 की समाप्ति पर 1,61,035 करोड़ रुपये का कर्ज था. कंपनी ने 31 मार्च 2021 तक चुकाने का लक्ष्य रखा था.

जियो में कई कंपनियों ने किए निवेश

बीते कुछ दिनों में दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो में कई वैश्विक कंपनियों ने निवेश किए हैं. इन कंपनियों में फेसबुक, सिल्वर लेक, विस्टा इक्विटी पार्टनर्स, जनरल एटलांटिक, केकेआर, मुबाडला, एडीआईए, टीपीजी, एल कैटेरटन और पीआईएफ शामिल हैं.

जियो में आखिरी निवेश 18 जून को सऊदी अरब के पीआईएफ ने की थी. कंपनी के 11,367 करोड़ रुपये में जियो प्लेटफॉर्म्स की 2.32 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने के साथ ही कंपनी के साथ वित्तीय सहयोगी जोड़ने का मौजूदा चरण खत्म हो गया है.

ADVERTISEMENT