सुहागरात के बाद दूल्हे की मौत, 15 बाराती पॉजिटिव, सुसाइड के बाद मरीज निकला निगेटिव


बिहार में कोरोना का कहर लगातार बढ़ रहा है और अाए दिन तरह-तरह के मामले सामने आ रहे हैं। वायरस की चपेट में आकर अबतक 55 लोगों की मौत हो चुकी है तो वहीं संक्रमितों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है। बिहार में बीते 24 घंटे के दौरान 228 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। और अब संक्रमितों की कुल संख्या  बढ़कर 7893 हो गई है।

पटना के पालीगंज में सोमवार को एक साथ 15 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं जिसके बाद वहां हड़कंप मची है। इसमें खास यह है कि सभी कोरोना पॉजिटिव पालीगंज के डीहपाली गांव में 15 जून को शादी समारोह में गए थे और सबने शादी में जमकर दावत उड़ाई थी। अब इनमें से 15 बाराती जहां कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं तो वहीं जिस शादी में वे शामिल हुए थे, दूल्हे की मौत शादी के बाद सुहागरात के अगले दिन 17 जून को ही इलाज के दौरान हो गई।

गांव के लोग दूल्हे की मौत का कारण भी कोरोना बता रहे हैं, लेकिन आधिकारिक तौर पर इसकी कोई पुष्टि नहीं कर रहा है। इस घटना के बाद उस शादी में जितने भी लोग शामिल हुए थे, एेसे सभी 125 लोगों का सैम्पल जांच के लिए भेजा गया था, जिसमें से 15 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके साथ ही पूरे इलाके को प्रशासन ने सील कर दिया है और सभी पॉजिटिव मरीजों को इलाज कर लिए मसौढ़ी स्थित आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया है।

अधिकारियों के मुताबिक डीहपाली गांव के युवक की विगत 15 जून को शादी हुई थी। वह दिल्ली से हाल में ही आया था औऱ उसकी शादी तय तिथि को हुई थी। जब वो घर आया तो बिहार में क्वारेंटाइन सेंटर्स बन्द हो चुके थे, जिसके बाद उसे होम क्वारेंटाइन कर दिया गया था। 15 जून को उसकी शादी हुई और 17 जून को उसे पेट दर्द की शिकायत के बाद निजी क्लीनिक में भर्ती कराया गया, जिसके बाद उसे पटना भेज दिया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी थी।

मरीज ने कर ली खुदकुशी, रिपोर्ट आई निगेटिव

पटना एम्स में भर्ती कोरोना संक्रमित एक व्यक्ति ने खुदकुशी कर ली। आइसोलेशसन वार्ड में भर्ती यह 38 वर्षीय युवक छोटी खगौल का निवासी था। वह 15 जून को एम्स में भर्ती हुआ था। उसे बुखार और सर्दी-खांसी के साथ सांस लेने में भी तकलीफ हो रही थी। वह डायबीटिज से भी पीड़ित था। 

अस्पताल में उसके इलाज से जुड़े डॉक्टरों ने बताया कि भर्ती होने के कुछ दिन पहले वह दिल्ली से लौटा था। डॉक्टरों ने बताया कि जब से वह भर्ती था, उसकी तबीयत में तेजी से सुधार हो रहा था। लेकिन वह काफी परेशान और तनाव में रहता था। 

डॉक्टरों द्वारा कई बार उसकी काउंसिलिंग भी की गई। वह लगभग ठीक हो चुका था। रविवार को उसका दोबारा सैंपल भी लिया गया था। हालांकि रिपोर्ट आने के पहले ही शाम चार बजे के करीब उसने आत्महत्या कर ली। उसकी रिपोर्ट शाम साढ़े पांच बजे निगेटिव आई।

ADVERTISEMENT