पश्चिम बंगाल मे पीडीएस वस्तुओं में हेराफेरी को लेकर 37 राशन डीलर गिरफ्तार किये गय


कोलकाता :पश्चिम बंगाल में सार्वजनिक वितरण प्रणाली की वस्तुओं में हेराफेरी के आरोप में कम से कम 37 राशन डीलर गिरफ्तार किये गये और 42अन्य के लाइसेंस निलंबित कर दिय गये। पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी। पुलिस ने कहा कि राशन व्यवस्था के मुद्दे पर फर्जी खबरें फैलाने के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। पश्चिम बंगाल पुलिस ने ट्वीट किया,‘‘ अप्रैल में राशन की 21,200 दुकानों से नौ करोड़ से अधिक लोगों के बीच मुफ्त राशन का वितरण किया गया। 42 राशन डीलरों के लाइसेंस रद्द कर दिये गये हैं जबकि 37 गिरफ्तार किये गये हैं।’’ पिछले महीने सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) की दुकानों के बाहर संघर्ष होने की खबरें आयी थी।

स्थानीय लोगों ने राशन सामग्री के वितरण में अनियमितता का आरोप लगाया था। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सितंबर तक साढ़े सात करोड लोगों को मुफ्त अनाज एवं राशन देने का वादा किया है। प्रदेश भाजपा ने पीडीएस में अनियमितता का आरोप लगाया है और दावा किया कि कुछ गरीबों को अनाज नहीं मिला है और वे भूखे मर रहे हैं। पार्टी ने मामले की सीबीआई जांच की मांग की है और उसके अलीपुरद्वार सांसद जॉन बारला ने इस विषय पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने भी राज्य में पीडीएस को लेकर हाल ही में चिंता प्रकट की थी।


ADVERTISEMENT