अमेरिका ने रचा इतिहास, SpaceX-NASA का ह्यूमन स्पेस मिशन लॉन्च


-रॉबर्ट बेनकेन और डगलस हर्ले स्पेस स्टेशन के लिए हुए रवाना
-पहली बार निजी कंपनी का स्पेसक्राफ्ट इंसानों को लेकर गया
-NASA-SpaceX के बीच समझौते के तहत कार्यक्रम जारी

खराब मौसम ने 3 दिन पहले अमेरिका को अंतरिक्ष जगत में इतिहास लिखने से रोक दिया था, लेकिन आज 31 मई को अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) निजी कंपनी स्पेस एक्स (SpaceX) के ड्रैगन (Dragon) स्पेसक्राफ्ट ने 2 अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (International Space Station - ISS) के लिए सफलतापूर्वक उड़ान भर ली.

ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट के जरिए 2 अंतरिक्षयात्री रॉबर्ट बेहेनकेन और डगलस हर्ले अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन के लिए रवाना हो गए.

पृथ्वी की कक्षा में पहुंचा कैप्सूलः ट्रंप

राष्ट्रपति ट्रंप ने सफल लॉंचिंग के बाद कहा, 'मैं यह घोषणा करते हुए रोमांचित हूं कि स्पेस एक्स ड्रैगन कैप्सूल सफलतापूर्वक पृथ्वी की कक्षा में पहुंच गया है, और हमारे अंतरिक्ष यात्री सुरक्षित और स्वस्थ हैं. इस लॉन्च के साथ, वर्षों से खोए और कम कार्रवाई का दौर आधिकारिक तौर पर खत्म हो गया है. यह अमेरिकी महत्वाकांक्षा के एक नए युग शुरू की शुरुआत है.

पूरे 9 साल बाद अमेरिका इतिहास रचने की कगार पर था, लेकिन खराब मौसम की वजह से 27 मई को ह्यूमन स्पेस मिशन को रोकना पड़ा. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) निजी कंपनी स्पेस एक्स (SpaceX) के ड्रैगन (Dragon) स्पेसक्राफ्ट के जरिए अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (ISS) भेजने की तैयारी में था.

27 मई 2020 की देर रात 2.03 बजे नासा को फॉल्कन रॉकेट से दो अमेरिकी एस्ट्रोनॉट्स को ISS के लिए रवाना करना था, लेकिन, 16.54 मिनट पहले इस मिशन को रोक दिया गया.

तब नासा ने कहा था कि खराब मौसम के कारण लॉन्च नहीं हो रहा है. अब यह मिशन तीन दिन बाद होगा. स्पेस एक्स का ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट फॉल्कन रॉकेट के ऊपर लगाया गया था. जिसके अंदर बैठे अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों के नाम हैं - रॉबर्ट बेनकेन और डगलस हर्ले. दोनों अंतरिक्ष यात्री पहले भी इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की यात्रा कर चुके हैं.

ADVERTISEMENT