15 दिनों तक पैदल चल शांतिपुर पहुंचे मजदूर


नदिया : मुर्शिदाबाद के 10 प्रवासी श्रमिक 15 दिनों तक लगातार पैदल चलकर हैदराबाद  से शांतिपुर पहुंचे। लॉकडाउन में फंसे इन मजदूरों ने अपने मन की ताकत से लगभग 1600 किलोमीटर का रास्ता तय किया। पुलिस सूत्रों के अनुसार ये लोग  मुर्शिदाबाद जिले के रहने वाले हैं। वे शुक्रवार को शांतिपुर के 34 नंबर राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे बैठे थे. स्थानीय लोगों द्वारा पूछताछ करने पर पता चला कि वे मुर्शिदाबाद के लिए हैदराबाद से पैदल चले हैं। प्रवासी श्रमिकों ने संवाददाताओं को बताया कि हैदराबाद से चलने के बाद वे जिन राज्यों से गुजरे वहां की सरकारें और वहां की पुलिस उनकी मदद की लेकिन जब वे पश्चिम बंगाल के क्षेत्र में प्रवेश किए तब उनकी  किसी ने मदद नहीं की. 

इन प्रवासी श्रमिकों की शिकायत है कि उत्तर 24 परगना के आमडांगा थाने की पुलिस ने शारीरिक परीक्षण के नाम पर उनके सारे पैसे ले लिए. उनके 300 से 400  रुपए ले लिए गए। उन्होंने कहा कि यात्रा के दौरान दूसरे राज्यों में उनके साथ अच्छा व्यवहार किया गया जबकि उनके अपने ही राज्य में उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया। 

घटना की सूचना पाते ही शांतिपुर थाने की पुलिस ने मौके पर पहुंच कर प्रवासी श्रमिकों की मदद की. नदिया जिले के दक्षिण भाजपा के सचिव मनोज बिन ने आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल सरकार प्रवासी मजदूरों के साथ अन्याय कर रही है. दूसरे राज्यों में कितने मजदूर फंसे हैं, राज्य सरकार को कुछ पता नहीं है। आमडांगा में पुलिस द्वारा इस तरह से की गई हरकत अमानवीय है. नदिया जिला सीपीएम के अध्यक्ष सुमित दे ने कहा कि आमडांगा थाने की पुलिस द्वारा इस तरह का बर्ताव  निंदनीय और अपराध है। ये मजदूर कई दिनों तक भूखे रहकर पैदल चले। इनके साथ इस तरह का बर्ताव करना बहुत ही निंदनीय है. नदिया जिला के कांग्रेस के अध्यक्ष ज्योतिर्मय भट्टाचार्य ने कहा कि पुलिस ने इन प्रवासी मजदूरों के साथ बहुत बड़ा अत्याचार किया है। इन श्रमिकों को दूसरे राज्यों में जाने के लिए राज्य सरकार ने ही बाध्य किया है।

ADVERTISEMENT