गुजरात: कोरोना से जंग में कैदियों ने पेश की मिसाल, CM राहत कोष में दी बड़ी रकम


कोरोना महामारी को लेकर देश के बड़े व्यापारी, सामाजिक संगठनों से लेकर व्यावसायिक संगठन तक प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री राहत कोष में मदद कर इस संक्रमण के खिलाफ जंग में मदद कर रहे हैं. ऐसे में गुजरात के सूरत में मौजूद लाजपोर जेल के कैदियों ने मुख्यमंत्री राहत कोष में अपने पारिश्रमिक के 1 लाख 11 हजार 111 रुपये जमा कर एक मिसाल कायम की है.

सूरत की लाजपोर जेल पहली जेल बन गई है जिसके कैदियों ने अपने मेहनताना में से जमा रकम को मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया है. लाजपोर जेल के कैदियों ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 1 लाख 11 हजार 111 रुपये जमा किए हैं.

लाजपोर जेल अधीक्षक मनोज निनामा ने कहा कि उनके जेल में बंद कैदियों ने उनके सामने एक प्रस्ताव रखा था. बंद कैदियों ने संकट के इस दौर में देश की मदद करने की इच्छा जाहिर की. जेल अधीक्षक ने कहा कि कैदियों की मदद करने की भावना को काफी पसंद किया जा रहा है.

जेल अधीक्षक मनोज निनामा ने कहा कि दुनिया भर में फैली इस महामारी के खिलाफ लड़ने के लिए कैदी भी सामने आए हैं, क्योंकि वह भी समाज का एक अभिन्न हिस्सा हैं, भले ही वे जेल में ही क्यों ना हों.

उन्होंने कहा कि हमारे जेल में बंद कैदियों ने इस मुश्किल वक्त में देश की मदद कर एक ऐसी मिसाल कायम की है, जिससे लोगों में मदद करने का जज्बा जरूर बढ़ेगा.