यूपी: क्वारनटीन से भागकर घर पहुंचा युवक, परिवार पर मुकदमा दर्ज


देश में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं. कोरोना संकट से निपटने के लिए देश में 21 दिनों का लॉकडाउन लागू है. इस बीच बाराबंकी में एक युवक के क्वारनटीन सेंटर से भागने के बाद उसके और परिवार के सदस्यों पर मुकदमा दर्ज किया गया है.

कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए देश की राजधानी दिल्ली से उत्तर प्रदेश के बाराबंकी आए एक युवक को 14 दिन के लिए स्कूल में बनाए गए क्वारनटीन सेंटर में रखा गया था. हालांकि युवक स्कूल से फरार होकर अपने घर पहुंच गया. जिसके कारण पुलिस ने युवक के साथ ही उसकी पत्नी और मां-बाप पर मुकदमा दर्ज किया है.

मामला थाना मोहम्मदपुर खाला के सरवा गांव का है. दरअसल, बाराबंकी में 29 मार्च को दिल्ली से एक युवक अपने गांव पहुंचा. बताया जा रहा है कि युवक दिल्ली में निजामुद्दीन के तबलीगी जमात के मरकज से होकर लौटा था. इस पर गांव वालों ने विरोध किया तो फतेहपुर तहसील के एसडीएम और सीओ समेत पुलिस मौके पर पहुंची.

इसके बाद कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए डॉक्टरों की टीम के जरिए शुरुआती जांच की गई. जांच के बाद स्वास्थ्य विभाग ने 14 दिन के लिए गांव के बाहर प्राइमरी स्कूल में शख्स को क्वारनटीन कर दिया और परिवार को उनसे दूर रहने की हिदायत दी गई.

हालांकि इसके बावजूद क्वारनटीन किया गया युवक 2 अप्रैल को अपने घर चला गया और गांव में घूमते हुए गांव के लोगों को गाली देता हुआ पाया गया. गांववालों ने इसकी सूचना पुलिस को दी, जिस पर पुलिस ने युवक को समझाया और फिर से स्कूल पहुंचाया. पुलिस की सूचना पर डॉक्टरों की टीम ने क्वारनटीन किए गए युवक के साथ-साथ उसके पूरे परिवार को भी क्वारनटीन कर दिया. वहीं आरोपी युवक को जहांगीराबाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया.

पुलिस ने मांगी जानकारी

पुलिस ने आईपीसी की कई धाराओं में युवक, उसकी पत्नी के अलावा मां-बाप के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया है. वहीं बाराबंकी पुलिस अधीक्षक ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि जो लोग भी जमात से आए हैं, वे अपनी सूचना पुलिस को दें और बेवजह घरों से बाहर न घूमें. जमात या विदेश से आए लोगों ने 24 घंटे में अगर सूचना नहीं दी तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.