About Me

header ads

हावड़ा में लॉक डाउन की अनदेखी करने पर 100 से ज्यादा गिरफ्तार, पिलखाना में पुलिस ने भांजी लाठी


हावड़ा : जानलेवा नोबेल कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के कारण राज्य सरकार द्वारा किए गए लॉक डाउन के बावजूद सड़कों पर घूमने-फिरने और निर्देशों की अनदेखी करने वाले 100 से ज्यादा लोगों को हावड़ा में गिरफ्तार किया गया है.

हावड़ा सिटी पुलिस सूत्र के अनुसार सोमवार शाम पांच बजे से राज्य में लॉक डाउन हो गया था. बावजूद इसके शहर के कुछ क्षेत्रों में लोग सड़कों पर घूम रहे थे, गाड़ियां चला रहे थे और लॉकडाउन कानूनों की धज्जियां उड़ा रहे थे. इसकी जानकारी मिलने के बाद पूरे महानगर में पुलिस ने धर पकड़ अभियान चलाया और 100 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. इनके खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 188 के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू की गई है. इस धारा के तहत गिरफ्तार लोगों को कम से कम एक महीने और अधिक से अधिक छह महीने तक जेल की सजा हो सकती है. इसके साथ ही 200 से 1000 रुपये तक का जुर्माना भी देना पड़ेगा. बताया गया है कि फिलहाल  हावड़ा में इस तरह का अभियान लगातार जारी रहेगा. कोई भी व्यक्ति अगर लॉक डाउन कानूनों की अनदेखी कर सड़क पर निकलता है तो उसके खिलाफ ठोस कानूनी कार्रवाई होगी.

उल्लेखनीय है कि सोमवार को लॉक डाउन होने से पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दो टूक शब्दों में कहा था कि जो लोग भी कानून का पालन नहीं करेंगे उनके खिलाफ ठोस कार्रवाई होगी. उसके पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी राज्य सरकारों को यह निर्देश दिया था कि जो लोग भी लॉक डाउन को गंभीरता से नहीं ले कर उसकी अनदेखी कर रहे हैं उनके खिलाफ ठोस कार्रवाई की जानी चाहिए.

सोमवार शाम से  हावड़ा में शुरू हुआ लॉकडाउन अब 31 मार्च को आधी रात तक चलेगा. लॉकडाउन शुरू होने के बाद कोलकाता और  हावड़ा में  अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र काजीपाड़ा और पिलखाना में सबसे अधिक गाड़ियां चल रही थीं और लोग सड़कों पर बैठकर गप्पे मार रहे थे. सूचना मिलने के बाद पुलिस ने वहां छापेमारी की थी और लोगों को गिरफ्तार किया था. इसी तरह से शिवपुर, लिलुआ, जगाछा,  संध्याबाज़ार, बी. गार्डन, सालकिया और अन्य क्षेत्रों में भी लोगों के घूमने फिरने का सिलसिला जारी था जिसके बाद पुलिस ने कार्रवाई की.