गरीबों की मदद को आगे आया प्रशासन, सामाजिक संस्थाएं भी कर रही सहयोग



युवाशक्ति टीम
-
हुगली : लॉकडाउन के कारण ज्यादातर  लोग अपने-अपने घरों में बंद हैं जबकि  कुछ लोग अलग-अलग स्थानों पर फंसे हुए हैं। इनमें  कई ऐसे लोग भी हैं जिनके खाने-पीने और रहने का जुगाड़ नहीं हो पा रहा है। शनिवार को हुगली जिले में ऐसे लोगों की मदद के लिए प्रशासन और सामाजिक संस्थाएं आगे आईं। 

रिसड़ा नगरपालिका के चेयरमैन विजय सागर मिश्रा ने बताया कि रिसड़ा नगरपालिका द्वारा रिसड़ा के 11 नंबर वार्ड स्थित कम्युनिटी हॉल में फिलहाल फुटपाथ पर रहने वाले गरीबों के लिए रहने  और उनके दो वक्त के भोजन का भी प्रबंध किया गया  है। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का कठोरता से पालन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि रिसड़ा नगरपालिका का प्रथम उद्देश्य यही है कि रिसड़ा में कोई भूखा ना सोये। 

वहीं दूसरी तरफ रिसड़ा में ही छोटे-छोटे समूह बनाकर समाजसेवी युवा गरीबों में दूध बिस्कुट व अन्य खाद्य सामग्री बांटते हुए नजर आए। चुचुड़ा के हरिजनपल्ली में भाजपा की ओर से भी गरीबों में खाद्य सामग्री वितरित की गई। इसके अलावा चुचुड़ा के बालिर हाट इलाके में स्थानीय युवकों ने मिलकर गरीबों का पेट भरने की जिम्मेदारी ली। 

गोघाट थाने की पुलिस भी गरीबों में खाद्य सामग्री वितरित करती हुई दिखी। हुगली जिला तृणमूल छात्र परिषद के अध्यक्ष गोपाल राय ने पुरसुरा में फंसे हुए 30 श्रमिकों को उनके घर भिजवाने की व्यवस्था करवाई। सिंगूर में भी पुलिस ने गरीबों के हाथ में भोजन सामग्री पहुंचाया।

वहीं डानकुनी में भाजपा की ओर से हाईवे के किनारे फंसे चालकों और खलासियों के लिए भोजन की व्यवस्था करवाई गई। हुगली जिला पुलिस ग्रामीण की ओर से भी 800 गरीब परिवारों को चावल और मुढ़ी दिया गया। श्रीरामपुर नगरपालिका के 21 नंबर वार्ड के पार्षद तियाशा मुखर्जी ने अपने वार्ड में मास्क और साबुन वितरित किया।