About Me

header ads

नागरिकता कानून के विरोध में दिल्ली और बंगाल में उत्पात, थानों में तोड़फोड़ और रोकी गई ट्रेनें


नागरिकता संशोधन कानून के विरोध को लेकर दिल्ली और बंगाल में हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है. मंगलवार को दिल्ली के जाफराबाद में प्रदर्शनकारियों ने दो बसों सहित कई वाहनों में तोड़फोड़ की. मोटरसाइकिलों को आग के हवाले कर दिया.

उपद्रवियों ने एक मोबाइल शौचालय को भी आग लगा दी. उपद्रवी घटनास्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरे और एक एलईडी भी को ले गए. घटना में करीब 22 लोग जख्मी हुए हैं, इसमें 12 पुलिस कर्मी शामिल हैं. पुलिस ने पत्थर चलाने के आरोप में पांच युवकों को हिरासत में लिया है.

बंगाल में हावड़ा का मानिकपुर इलाके रणक्षेत्र में तब्दील हो गया. प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने पहुंची पुलिस को लक्ष्य कर बम फेंके गए, जिसमें हावड़ा के डीसीपी समेत तीन पुलिसकर्मी जख्मी हो गए.

उपद्रवियों ने जगह-जगह ट्रेनें भी रोकी. उधर, सीएए के विरोध को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार ने बेहद सख्त रुख अपनाया है. मऊ व लखनऊ समेत अन्य जिलों में पुलिस ने अब तक 113 आरोपितों को गिरफ्तार किया है, जिनमें 28 मऊ में पकड़े गए हैं. 

अलग-अलग जिलों में 18 मुकदमे दर्ज किए गए हैं, जिनमें वीडियो फुटेज के आधार पर अन्य आरोपितों को चिह्नित किया जा रहा है.