About Me

header ads

नीतीश के मंत्री बोले- बिंद जाति के थे भगवान शिव और हनुमान


⬪बिहार सरकार में मंत्री बृजकिशोर बिंद ने बताई भगवान शिव की जाति
⬪बृजकिशोर ने कहा कि भगवान शिव और हनुमान बिंद जाति के थे
⬪बयान के बाद बोले- जो बातें कहीं लिखी हुई हैं, मैं उसे दोहरा रहा हूं

बिहार के खनन एवं भूतत्व मंत्री बृजकिशोर बिंद ने भगवान शिव को बिंद जाति का बताकर एक नया विवाद खड़ा कर दिया है. पटना में आयोजित नोनिया बिंद और बेलदार के सम्मेलन में उन्होंने कहा कि भगवान शिव बिंद जाति के थे.

इस कार्यक्रम में बिहार के राज्यपाल फागू चौहान और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी भी मौजूद थे. पिछले चुनाव में उतर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हनुमान जी को आदिवासी दलित कह दिया था, जिसको लेकर काफी बवाल मचा था.

बृजकिशोर बिंद ने ऐलान करने के अंदाज में अपने समाज के लोगों को इस बारे में जानकारी दी और तर्क दिया कि अगर भगवान कृष्ण यादव हो सकते हैं, ग्वाला हो सकते हैं, भगवान राम राजपूत हो सकते हैं तो भला भगवान शिव बिंद क्यों नहीं हो सकते? उन्होंने कहा कि भगवान शिव बिंद हैं, इसकी चर्चा शिव पुराण और प्राचीन इतिहास में है.

उन्होंने कहा कि शिव पुराण के भाग 2, अध्याय 36, पैरा 4 में लिखा हुआ है कि शंकर भगवान बिंद जाति से थे. इतना ही नहीं, प्राचीन भारत के इतिहास में लेखक विद्याधर महाजन ने लिखा है कि शंकर जी बिंद जाति के थे. यह एमए की क्लास में भी पढ़ाया जाता है. जो जानकारी मुझे पुस्तकों से मिली है उसके आधार पर मैंने सोचा कि समाज के सभी लोगों को इसकी जानकारी होनी चाहिए.

खनन मंत्री यहीं नहीं रुके. उन्होंने अपने गृह जिला कैमूर पहुंचकर फिर इस बात को दोहराया कि भगवान शिव बिंद जाति से आते हैं और भगवान हनुमान को शिव का अंश बताते हुए उन्हें भी बिंद जाति में शामिल कर दिया. यानी दोनों भगवान अति पिछड़ी जाति से हैं. मंत्री ने इस बयान के बाद सफाई देते हुए कहा कि जो बातें कहीं न कहीं लिखी हैं वो उन्हीं बातों को दोहरा रहे हैं. उनकी हर बात के पीछे तर्क है.