About Me

header ads

बिहारः चुनाव से पहले तीसरे मोर्चे की सुगबुगाहट तेज, मांझी और पप्पू यादव ने मिलाए हाथ


⬥RJD से नाखुश नेता तीसरे मोर्चे में हो सकते हैं शामिल
⬥बिहार में अगले साल होना है विधानसभा चुनाव

अगले साल बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश में राजनीतिक समीकरण तेजी से बदलने लगे हैं. हाल ही में महागठबंधन से अलग हुए हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने NDA और महागठबंधन को टक्कर देने के लिए तीसरा मोर्चा बनाने की कवायद शुरू कर दी है.

इसी क्रम में जीतन राम मांझी ने सोमवार रात जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और पूर्व सांसद पप्पू यादव से अपने आवास पर मुलाकात की. माना जा रहा है कि मांझी और पप्पू यादव मिलकर चुनाव से पहले तीसरा मोर्चा बनाने की तैयारी कर रहे हैं.

पप्पू यादव की तरफ से जानकारी मिल रही है कि वह इस प्रयास में लगे हुए हैं कि बिहार में समाज के अंतिम पंक्ति में खड़े सामाजिक और आर्थिक रूप से प्रताड़ित दलित और अति पिछड़ी जाति के लोगों को मुख्यधारा में लाया जाए और इसी उद्देश्य को लेकर उन्होंने मांझी के साथ हाथ मिलाकर तीसरा मोर्चा बनाने की कवायद शुरू कर दी है.

जानकारी यह भी है कि केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी से अलग होकर लोक जनशक्ति पार्टी (सेकुलर) नाम से पार्टी बनाने वाले सत्यानंद शर्मा भी इस तीसरे मोर्चे का हिस्सा बनने को तैयार हो गए हैं. इसी क्रम में पप्पू यादव ने मंगलवार को सत्यानंद शर्मा से भी उनके आवास पर मुलाकात की.

गौरतलब है कि बिहार में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं और इसको लेकर अभी से ही सभी राजनीतिक दल अपने भविष्य को देखते हुए नए राजनीतिक समीकरण तलाश रहे हैं. सूत्रों की मानें तो इस मोर्चे में कुछ ऐसे नेता भी शामिल हो सकते हैं जो कि आरजेडी में नाखुश हैं.