Wrestlers Protest: बृजभूषण पर यौन शोषण के आरोप की होगी जांच, पहलवानों का धरना खत्म


रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ पहलवानों द्वारा बीते तीन दिनों से चलाया जा रहा धरना आज खत्म हो गया. पहलवानों द्वारा जंतर-मंतर पर किए गए प्रदर्शन के पीछे की मुख्य वजह बृजभूषण पर महिला पहलवानों का यौन उत्पीड़न करने का आरोप था. देश के लगभग 30 बड़े पहलवानों ने उनपर यौन उत्पीड़न और कुश्ती संघ में अनियमितता करने के आरोप लगाए हैं. हालांकि, अब उन पर लगे आरोपों की जांच के लिए खेल मंत्रालय ने समिति गठित करने की घोषणा की है.

इस मामले की शुरुआत उस समय हुई जब तीन बार की कॉमनवेल्थ मेडल विजेता विनेश फोगाट ने रोते हुए भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष और भाजपा सांसद बृजभूषण शरण पर महिला पहलवानों का यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया. हालांकि सांसद ने आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया. इसके बाद विनेश का साथ देते हुए ओलंपिक पदक विजेता साक्षी मलिक, बजरंग पुनिया और 30 बड़े पहलवानों ने इकट्ठा होकर जंतर मंतर पर धरना देना शुरू कर दिया. सभी ने बृजभूषण पर लगे आरोपों को सही बताया और कहा कि समय आने पर इसके सबूत भी दिए जाएंगे. धरने में पहलवानों में बृजभूषण का इस्तीफा और कुश्ती संघ को भंग करने तक की मांगे रखी. 

पहलवानों ने धरने के दूसरे दिन खेल मंत्रालय के सामने अपनी बात रखने की मांग की, जिसे की मान लिया गया. देर शाम पहलवान खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ बैठक करने पहुंचे और कई घंटों तक चली ये बैठक बेनतीजा रही. पहलवान बृजभूषण के इस्तीफे पर अड़े रहे. इसके बाद 20-21 जनवरी की देर रात एक बार फिर खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के साथ पहलवानों ने वार्ता की, जो की सफल रही और पहलवानों ने धरना खत्म कर लिया. मंत्री ने बृजभूषण पर लगे आरोपों की जांच के लिए समिति गठित करने की बात कही है. समिति में कम से कम तीन लोग होंगे.