19 दिसंबर को कोलकाता नगर निगम चुनाव, 21 दिसंबर को मतगणना : राज्य निर्वाचन आयोग


कोलकाताः कोलकाता नगर निगम (केएमसी) चुनाव के लिए 19 दिसंबर को मतदान होगा। राज्य निर्वाचन आयोग ने इस संबंध में बृहस्पतिवार को एक अधिसूचना जारी कर यह जानकारी दी। पश्चिम बंगाल में सात महीने पहले हुए विधानसभा चुनाव के बाद, राज्य में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी भारतीय जनता पार्टी के लिए यह चुनाव एक बड़ी परीक्षा है, जो जमीनी स्तर पर पकड़ मजबूत करने और मतदाताओं के बीच अपना समर्थन आधार बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। तृणमूल कांग्रेस ने पिछले चुनाव में कोलकाता में 16 विधानसभा क्षेत्र में जीत दर्ज की थी।

राज्य निर्वाचन आयुक्त सौरव दास ने कहा कि नगर निकाय के 144 वार्ड में 21 दिसंबर को मतगणना की जाएगी। दास ने पत्रकारों से कहा, केएमसी चुनाव के लिए 19 दिसंबर को मतदान होगा और 21 दिसंबर को मतगणना की जाएगी। हम इसके लिए अलग अधिसूचना जारी करेंगे। पूरी चुनाव प्रक्रिया 22 दिसंबर को पूरी होगी। आज से आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है।  इन चुनाव के लिए 40,48,352 लोग मतदान के पात्र हैं।

उन्होंने कहा,  4,742 मतदान केन्द्र स्थापित किए जाएंगे। नामंकन दाखिल करने की प्रक्रिया एक दिसंबर को शुरू होगी। नामंकन वापस लेने की आखिरी तारीख चार दिसंबर है। चुनाव तथा प्रचार अभियान के दौरान कोविड-19 संबंधी दिशनिर्देशों का पालन किया जाएगा। दास ने कहा कि डीजीपी और कोलकाता पुलिस आयुक्त से सुरक्षा बलों की तैनाती के संबंध में बातचीत जारी है। यह पूछे जाने पर कि क्या एसईसी केन्द्रीय बलों की तैनाती की मांग करेगा, दास ने कहा कि राज्य पुलिस बल द्वारा पेश की गई सुरक्षा योजना पर गौर करने के बाद ही वह इस बारे में कुछ कह पाएंगे।

कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण 112 अन्य नगर पालिकाओं तथा नगर निगमों के साथ केएमसी के चुनाव अप्रैल-मई 2020 से लंबित है। फिलहाल, राज्य सरकार ने केवल केएमसी चुनाव कराने का फैसला किया है। इन नगर निकायों को अभी राज्य द्वारा नियुक्त प्रशासक मंडल द्वारा चलाया जा रहा है। कोलकाता के पूर्व महापौर और बोर्ड ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर के वर्तमान अध्यक्ष फिरहाद हाकिम ने अधिसूचना का स्वागत किया और कहा कि पार्टी चुनाव लड़ने के लिए तैयार है।

तृणमूल कांग्रेस के नेता ने कहा, हम चुनाव के लिए तैयार हैं और लगातार तीसरी बार केएमसी चुनाव में जीत दर्ज करने को आश्वस्त हैं। पार्टी ने जिस तरह से पिछले 11 साल में विकास किया है, उसे देखते हुए हमें विश्वास है कि हमें बहुमत मिलेग। विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), कांग्रेस और वाम मोर्चे ने तीनों नगर निकाय चुनाव एक साथ कराने की मांग की है। भाजपा की राज्य इकाई के उपाध्यक्ष प्रताप बनर्जी ने कहा, हम चाहते हैं कि नगर निकाय चुनाव एक साथ हों। राज्य सरकार अपने राजनीतिक हितों के कारण चुनाव स्थगित कर रही है और फिर इसके लिए कोविड-19 वैश्विक महामारी को जिम्मेदार ठहरा रही है। कांग्रेस और वाम मोर्चा ने भी राज्य सरकार पर राजनीतिक कारणों के चलते नगर निकाय चुनाव स्थगित करने का अरोप लगाया।

माकपा के नेता सुजान चक्रवर्ती ने कहा, नगर निकाय चुनाव और अन्य नगर निगम चुनाव लंबित करने के लिए राज्य सरकार के पास कोई उचित जवाब नहीं है। राजनीति रूप से वे जिन क्षेत्रों में मजबूत नहीं है, वहां वे चुनाव स्थगित कर रहे हैं। केएमसी के चुनाव, विधानसभा चुनाव के करीब सात महीने बाद हो रहे हैं। 294 सदस्यीय विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने 213 सीट हासिल की थी और भाजपा को 77 सीटों पर जीत मिली थी।