Durga Puja: कोरोना काल में इस बार भी दुर्गापूजा में लोगों का आकर्षण खींचेंगे सोनू सूद

पिछली बार दुर्गापूजा में कोविड एक ऐसी थीम थी जिसने मानवता की अलग-अलग तस्वीरों को दिखाया था। एक खास पूजा केष्टोपुर प्रफुल्ल कानन की थी जहां गरीबों के मसीहा सोनू सूद को थीम बनाया गया था, साथ ही तस्वीर दिखायी गयी थी कि कैसे सोनू जरूरतमंदों की मदद के लिए आतुर हैं। लोगों को पंडाल में सोनू की यह थीम काफी पसंद आयी थी क्योंकि सोनू गरीबों के मसीहा बनकर जेहन में उतरे थे। सोनू की यह छवि अब तक बरकरार है क्योंकि वह जरूरतमंदों के लिए हमेशा से ही प्रयासरत रहे हैं। उनकी इन्हीं खूबियों को इस बार फिर केष्टोपुर प्रफुल्ल कानन अपने पूजा पंडाल में दिखाने की कोशिश कर रहा है।

जी हां, इस पूजा पंडाल में एक बार फिर सोनू सूद आकर्षण का केंद्र होंगे जो चक्रवात में मची तबाही में लोगों की मदद करने वाले हीरो के रूप में दिखेंगे। सोनू सूद की प्रतिमा कुम्हारटोली में सौमेन पाल तैयार कर रहे हैं। सौमेन पाल का कहना है कि कोरोना काल में दुर्गापूजा का रूप काफी बदल गया है। काम करने का तरीका भी बदला है। इस बदलाव का ही एक रूप सोनू सूद की प्रतिमा तैयार करना है जो एक चैलेंज है।

श्रीभूमि : चंदननगर की लाइटिंग से दिखायी जाएगी ओलम्पिक की झांकियां

ओलम्पिक में इस बार जो सफलताएं मिली हैं वह वाकई सराहनीय हैं। इन सफलताओं को ला​इटिंग के जरिये इस बार कोलकाता की दुर्गापूजा में दिखाया जाएगा। कहीं और नहीं बल्कि ओलम्पिक की यह झांकियां दिखाएगा श्रीभूमि स्पाेर्टिंग क्लब जिसे सजाया जाएगा चंदननगर की लाइटिंग से। बाबू पाल इस लाइट थीम की सजावट कर रहे हैं। जहां नीरज से चानू तक को लाइटिंग के जरिये दिखाया जाएगा।

कोरोना के कारण इस बार दुर्गापूजा में भी लाइटिंग का व्यवसाय काफी परेशानी से भरा है। चंदननगर लाइट ऑनर्स एसोसिएशन के सचिव बाबू पाल ने बताया कि कोरोना के कारण लाइटिंग का धंधा काफी मंदा पड़ गया है। कई लोग तो पेशा बदलने को आतुर हो गये हैं। श्रीभूमि ने इस बार लाइटिंग में ओलम्पिक को थीम बनाया है।