Bihar Politics: लालू यादव, तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव पर जमकर बरसे JDU प्रवक्ता नीरज कुमार, खगड़िया से कही ये बातें

Bihar Politics: खगड़िया परिसदन में मंगलवार को संवाददाताओं को संबोधित करते हुए जदयू के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व विधान पार्षद नीरज कुमार ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Yadav), नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) और तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) पर जमकर तंज कसा। उन्होंने तेज प्रताप को ट्विटर बबुआ की संज्ञा दी। नीरज कुमार ने सूबे की सरकार की जमकर प्रशंसा करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के कार्यों की चर्चा करते हुए जमकर तारीफ के पुल बांधे।

नीरज कुमार ने कहा, 'हमारी सरकार ने विकास की पटकथा लिखी है। यह विकास गांव आधारित विकास है। स्मार्ट गांव बनाने की मुख्यमंत्री की परिकल्पना रही है। हमारी सरकार ने पंचायती राज व्यवस्था में आरक्षण देकर नक्सल आंदोलन के सामाजिक आधार को ध्वस्त कर दिया। जिसके बाद गांवों में अमन चैन कायम हुआ है। जिसका एहसास बिहार के आमलोगों को है।

उन्होंने पूर्व की सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि जनता ने जब हमें मौका दिया, तो हमने घर- घर बिजली पहुंचाई। लेकिन उन्होंने अपने समय में घर-घर लालटेन डलवाने का काम किया। अब हम हर खेत तक बिजली पहुंचाने की कार्य योजना को अंतिम रूप दे रहे हैं। सरकार की गांव आधारित विकास ही रोल माडल है।

उन्होंने तंज कसते हुए कहा- तेजस्वी के पिताजी को कैदी नंबर 3351 के रूप में परिभाषित किया गया है। जबकि नीतीश जी को यूएनओ ने ग्लोबल कांफ्रेंस में क्लाइमेट लीडर कहा है।

नीरज कुमार यहां ही नहीं रूके, उन्होंने तंज कसते हुए कहा- कुछ लोग ऐसे हैं, जो आठवीं, नवमी पास हैं, उनके भी पेट में दर्द होने लगता है। अब पेट दर्द होगा, तो माथा दर्द की दवाई से ठीक होना नहीं है। कहा, लालू जी 2005 से ही जाप कर रहे हैं। लेकिन सरकार में हम अब भी बरकरार हैं। हमारी सरकार सेवा के लिए है, लेकिन इनको तो धन अर्जन चाहिए।

उन्होंने विपक्ष पर कटाक्ष करते हुए कहा कि हम इंजीनियरिंग कालेज चला रहे हैं और आप चरवाहा विद्यालय चला रहे थे। जदयू प्रवक्ता ने सुशासन की सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए कहा कि, महिलाओं के उत्थान के लिए सरकार कटिबद्ध है। बेटियों को सशक्त करने का लगातार सरकार द्वारा अभियान चलाई जा रही है। उन्होंने कहा कि जातीय जनगणना आवश्यक है। इससे समाज के सभी तबकों के जो विकास सूचकांक हैं, उनको मजबूत करने में मदद मिलेगी।