कोलकाता के एमआर बांगुर हॉस्पिटल को देश के सर्वश्रेष्ठ अस्पताल का तमगा

कोरोना वायरस महामारी के पहले झटके से निपटने के लिए एम.आर. बांगुर अस्पताल को कोविड अस्पताल के तौर पर चिह्नित किया गया था। इसके बाद से ही कोलकाता और राज्य के जिलों से भी यहां मरीज इलाज के लिए पहुंचे व ठीक होकर घर गए। एक तरह से यह अस्पताल मरीजों के लिए चिकित्सा में वरदान बना। 2020 की शुरुआत से ही कोविड अस्पताल का नाम पाने वाला बांगुर अस्पताल तब से लगातार कोरोना की जंग में काम कर रहा है। इसने हजारों को कोविड से चंगा किया। इन सभी कार्यों को कई नामी सरकारी अस्पतालों ने सराहा भी है।

इस बीच एमआर बांगुर हॉस्पिटल को पूरे देश के सर्वश्रेष्ठ जिला अस्पतालों में उत्कृष्ट अस्पताल का तमगा मिला है। नीति आयोग की ओर से स्वास्थ्य विभाग के पास मान्यता पत्र पहुंचा है। ऐसी अकल्पनीय सफलता से हर कोई स्वाभाविक रूप से खुश है। एम.आर.बांगुर हॉस्पिटल के अस्पताल अधीक्षक डॉ.शिशिर नस्कर ने कहा कि हमारे सभी डॉक्टर्स व स्वास्थ्य कर्मियों के लिए यह एक बड़ी उपलब्धि है। दरअसल नीति आयोग ने देश भर के जिला अस्पतालों की कार्य प्रणाली पर एक सर्वेक्षण किया था। 2018-19 के उस सर्वे में नीति आयोग ने एम.आर. बांगुर हॉस्पिटल को बेस्ट का खिताब दिया है।

नीति आयोग की ओर से एम.आर.बांगुर अस्पताल की तारीफ करते हुए राज्य के स्वास्थ्य विभाग को पत्र भेजा गया है। केंद्र की इस मान्यता से स्पष्ट है कि राज्य की स्वास्थ्य सेवाएं काफी उन्नत हैं। इससे पूर्व केंद्रीय प्रतिनिधिमंडल ने बेलियाघाटा आईडी अस्पताल की कोरोना में अच्छी सेवा के लिए सराहना की थी। पिछले साल केंद्रीय प्रतिनिधिमंडल कोलकाता में मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर देखने आया था। वह बेलियाघाटा आईडी की सुविधाएं देखकर संतुष्ट हुआ था।