सीएम नीतीश कुमार के जनता दरबार में कैमूर के युवकों ने खोली स्‍वास्‍थ्‍य और समाज कल्‍याण विभाग की पोल

पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के जनता दरबार में कैमूर जिले के तीन लोग शामिल हुए। जिसमें से दो ने स्वास्थ्य विभाग (Bihar Health Department) के गड़बडिय़ों के बारे में तथा एक ने आइसीडीएस विभाग (Bihar Integrated Children Development Scheme Department) के मामले में हुई गड़बड़ी के मामले में शिकायत दर्ज कराई है।

इसलिए नहीं मिला नौकरी का मौका

रामपुर प्रखंड के जलालपुर गांव के निवासी बजरंगी पासवान ने सीएम को कहा कि स्वास्थ्य समिति (Bihar Health Society) की ओर से बहाली की गई। जिसमें एसटीएफ पद के लिए बहाली में बीएससी व लाइसेंस आदि चीजें मांगी गई। जबकि केंद्र सरकार व राज्य सरकार के गाइडलाइन कुछ और कहती है। उनको नौकरी का मौका इसलिए नहीं मिल पाया। स्वच्छता निरीक्षक के पद पर वैल्यू नहीं दिया गया।

नियुक्ति में हुईं ये गड़बडि़यां

वहीं दूसरी ओर भभुआ नगर के वार्ड 12 के बनवारी लाल शर्मा की शिकायत थी कि संविदा पर कार्यरत स्टाफ नर्स ग्रेड बीएससी नर्सिंग को स्थायी बहाली में शामिल करने की मांग की है। चैनपुर के सतौना गांव निवासी इरशाद आलम की शिकायत थी कि आइसीडीएस विभाग में प्रखंड समन्वयक की बहाली में उनका छठवां स्थान था। लेकिन 11 प्रखंड के होते हुए उसकी बहाली नहीं हो सकी, जबकि इस मामले में रोस्टर का भी ध्यान नहीं दिया गया।

इस मामले में सीएम नीतीश कुमार ने दो मामलों को स्वास्थ्य विभाग में भेजा है। एक मामले में आइसीडीएस विभाग को भेजा है। सभी को अगले कुछ दिनों में उनके आवेदन के बारे में रिपोर्ट मिलेगी। बता दें कि मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर से 'मुख्‍यमंत्री जनता के दरबार में' में कार्यक्रम की शुरुआत की है। इसमें पूरे राज्‍य से लोग अधिकारियों की शिकायत और अपनी समस्‍या लेकर सीएम के पास निदान के लिए पहुंच रहे हैं। जनता दरबार में भाग लेने के लिए पहले से रजिस्‍ट्रेशन कराना आवश्‍यक होता है।