CII ने की 3 लाख करोड़ रुपये के आथिक पैकेज की हिमायत, Jan Dhan Accounts में पैसे डालने की भी सिफारिश


इंडस्ट्री चैंबर सीआईआई के मुताबिक भारतीय इकोनॉमी को तीन लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की जरूरत है। चैंबर के मुताबिक कोरोना महामारी के बीच आर्थिक वृद्धि को मजबूती देने के लिए इस पैकेज के तहत जनधन खातों में सीधी नकद सहायता भी उपलब्ध करायी जानी चाहिए। इसके अलावा CII ने वैक्सीनेशन की तेज कवरेज के लिए 'Vaccine Czar' की नियुक्ति की हिमायत की है।

CII के प्रेसिडेंट टी वी नरेंद्रन ने भी कहा कि चैंबर को उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2021-22 में इकोनॉमी में 9.5 फीसद का ग्रोथ देखने को मिलेगा। उन्होंने कहा कि दूसरे देशों से मजबूत मांग और बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन के कवरेज से आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने में मदद मिलेगी और इससे चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में मजबूत वृद्धि दर्ज की जाएगी।

उन्होंने वैक्सीनेशन कवरेज में तेजी के लिए "Vaccine Czar" की नियुक्ति की भी सिफारिश की।

नए प्रेसिडेंट ने कहा कि कोविड-19 की दूसरी लहर से प्रभावित लोगों के दबाव को कम करने के लिए उचित राजकोषीय उपाय वक्त की जरूरत है।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि भारतीय इकोनॉमी खपत पर आधारित अर्थव्यवस्था है और महामारी से उपभोक्ता मांग पर असर देखने को मिला है। इस वजह से चैंबर ने कैश ट्रांसफर से कई उपाय किए जाने का आह्वान किया है।

नरेंद्रन ने कहा, ''तीन लाख करोड़ रुपये के राजकोषीय प्रोत्साहन पैकेज (Fiscal stimulus) की दरकार है....तीन लाख करोड़ रुपये के अतिरिक्त प्रोत्साहन पैकेज दिए जाने की गुंजाइश है।''

उन्होंने कहा कि इस प्रोत्साहन पैकेज को समायोजित करने के लिए आरबीआई को अपना बैलेंस शीट एक्सपेंड करना चाहिए। इससे लेंडिंग कॉस्ट एक दायरे में रहेगी।