Cyclone Yaas Effect: चक्रवाती तूफान से कई राज्यों में तबाही, पीएम मोदी कल बंगाल-ओडिशा का करेंगे दौरा, इन राज्यों में अलर्ट जारी

चक्रवाती तूफान याक पश्चिम बंगाल और ओडिशा में तबाही मचाने के बाद झारखंड पहुंच गया है। झारखंड में मुसलाधार बारिश हो रही है। जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। वहीं मौसम विभाग ने बिहार, यूपी सहित कई राज्यों में अलर्ट जारी किया है। 

चक्रवाती तूफान यास से प्रभावित पश्चिम बंगाल और ओडिशा का पीएम मोदी शुक्रवार को दौरा करेंगे। सबसे पहले वे ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर पहुंचकर रिव्यू मीटिंग करेंगे। इसके बाद मोदी बालासोर, भद्रक और पूर्वी मेदिनीपुर का हवाई सर्वे करेंगे। इन जिलों में ही तूफान ने सबसे ज्यादा तबाही मचाई है। इसके बाद वे बंगाल में भी रिव्यू मीटिंग करेंगे।

बंगाल और ओडिशा में 20 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित

बंगाल और ओडिशा में तबाही मचाने के बाद यास तूफान आगे बढ़ गया है, लेकिन ये तूफान अपने पीछे तबाही का मंजर छोड़ गया है। बंगाल और ओडिशा में तूफान की वजह से 20 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं। बारिश और घरों के टूटने की वजह से 4 लोगों की मौत हो गई। इनमें 3 ओडिशा और एक बंगाल से है।

बंगाल में 3 लाख लोगों के घर बर्बाद

बंगाल में पूर्व मेदिनीपुर जिले के दीघा, शंकरपुर, मंदारमनी दक्षिण 24 परगना जिले के बाद बकखाली, संदेशखाली, सागर, फ्रेजरगंज, सुंदरबन आदि जगहों से लेकर पूरे बंगाल में 3 लाख लोगों के घर इस तूफान से उजड़ गए हैं। 134 बांध टूट गए हैं, जिन्हें ठीक करवाया जा रहा है। यहां बुधवार को 130-145 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 28 और 29 मई को हेलिकॉप्टर से तूफान प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगी।

झारखंड में भारी बारिश, रांची में बने बाढ़ जैसे हालात

चक्रवाती तूफान यास की वजह से वैसे तो पूरे झारखंड में बारिश हो रही है, लेकिन रांची में हो रही बारिश से बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। चक्रवाती तूफान यास के कारण कल से ही रांची बारिश हो रही है इसलिए यहां का रास्ता ब्लॉक हो गया है। इसके अलावा चक्रवाती यास की वजह से रांची में तेज बारिश होने के कारण स्‍थानीय नदी का पानी भी लगातार बढ़ रहा है। बता दें कि चक्रवाती तूफान यास बुधवार रात 75 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार की हवाओं और भारी बारिश के साथ झारखंड की सीमा में पहुंचा था। जबकि आज कई जगह न सिर्फ तेज हवा चल रही है बल्कि जोरदार बारिश भी हो रही है। यही नहीं, तूफान से प्रभावित होने की आशंका वाले जिलों में एनडीआरएफ की आठ कंपनियां तैनात की गई हैं।

बिहार के कई जिलों में तेज हवा के साथ बारिश

ओडिशा-बंगाल में भारी तबाही बचाने के बाद चक्रवात यास बिहार पहुंच चुका है। भागलपुर, सुपौल, कटिहार और पूर्णिया समेत कई जिलों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है। अभी तक राज्य के किसी भी जिले से जान माल के नुकसान की खबर नहीं मिली है। बुधवार को मौसम विभाग ने बताया कि बिहार में चक्रवात यास कम प्रभावी होकर डिप्रेशन में बदल जाएगा। यहां इसकी रफ्तार 30 से 40 किलोमीटर प्रतिघंटे रह जाएगी।