बंगाल विधानसभा चुनाव: कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच चुनाव आयोग के अहम फैसले, शाम 7 से सुबह 7 के बीच रैलियां बैन

बंगाल में चल रहे विधानसभा चुनाव के बीच कोरोना के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर चुनाव आयोग ने चुनाव प्रचार की समयसीमा को शाम 7 बजे तक बढ़ा दिया है। शाम 7 बजे से लेकर सुबह 10 बजे के बीच कोई चुनाव प्रचार की मंजूरी नहीं मिलेगी। आखिरी बचे तीन चरणों में अब चुनाव से दो की जगह तीन दिन पहले चुनाव प्रचार खत्‍म हो जाएगा। चुनाव आयोग ने स्‍पष्‍ट किया कि कोरोना के बढ़ते केसों को लेकर शाम 7 बजे से लेकर सुबह 10 बजे तक कोई भी चुनावी रैली या पब्लिक मीटिंग पर पाबंदी रहेगी।

शुक्रवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में सभी राजनीतिक दलों के नुमाइंदों ने अपने सुझाव रखे, जिसपर गौर करके आयोग फैसला लेगा। बैठक में सत्ताधारी दल तृणमूल कांग्रेस की तरफ से शामिल हुए पार्थ चटर्जी व सुब्रत बक्सी ने राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी आरिज आफताब से शनिवार को पांचवें चरण का मतदान संपन्न होने के बाद शेष तीन चरणों को एक बार में कराने का प्रस्ताव रखा।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी से जिंदगियों की रक्षा करने के लिए ऐसा करना जरूरी है। भाजपा इससे सहमत नजर नहीं आई। भाजपा की तरफ से शिशिर बाजोरिया ने हालांकि यह जरूर कहा कि चुनाव आयोग ही इसपर अंतिम निर्णय ले। वाममोर्चा-कांग्रेस-इंडियन सेक्युलर फ्रंट गठबंधन (संयुक्त मोर्चा) की तरफ से बैठक में उपस्थित हुए वामो नेता रॉबिन देव व विकास रंजन भट्टाचार्य ने कहा कि कोरोना महामारी से संबंधित स्वास्थ्य दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा। हमने चुनाव प्रचार में इसका पूरा ध्यान रखा है। हमारे खिलाफ इसे लेकर कोई शिकायत भी नहीं है।

बता दें बंगाल चुनाव के पांचवें चरण के लिए मतदान 17 अप्रैल को होने वाला है। चुनाव के पहले के चार चरण क्रमश: 27 मार्च, 1 अप्रैल, 6 अप्रैल और 10 अप्रैल को हुए थे, जबकि अन्य प्रदेशों की भांति कोरोना की दूसरी लहर में बंगाल में भी कोरोना की भयावह स्थिति है। 

वहीं, चुनावी राज्य बंगाल में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 6769 नए मामले सामने आए, 2387 लोग ठीक हुए और 22 की मौत हो गई। राज्य में अब संक्रमण के कुल मामले छह लाख 36 हजार 885 हो गए हैं। इनमें से पांच लाख 89 हजार 424 लोग ठीक हो चुके हैं और 10,480 की मौत हुई है। राज्य में अब कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या 36,981 हो गई है। 

हालांकि इस बीच शुक्रवार को चुनाव आयोग ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है जिसमें प्रबल संभावना है कि चुनाव प्रचार को लेकर सख्त निर्देश दिए जा सकते हैं। निर्वाचन आयोग के एक अधिकारी ने बताया कि राज्य में सभी राजनीतिक दलों से बैठक के लिए केवल एक प्रतिनिधि भेजने को कहा गया है। 

बैठक में बाकी चार चरणों के लिए चुनाव प्रचार से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। उन्होंने कहा कि सामाजिक दूरी और कोविड-19 से जुड़े विभिन्न नियमों के पालन को लेकर चर्चा की जाएगी। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी जो खुद भी कोरोना को लेकर काफी सतर्क रहते हैं, वह अब बंगाल में रैलियां कैसे करते हैं यह भी देखने वाली बात होगी। पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) आरिज आफताब ने आज सर्वदलीय बैठक बुलायी है। इससे पहले कलकत्ता हाईकोर्ट ने सीईओ और राज्य में सभी जिलाधिकारियों को चुनाव के बाकी चार चरणों में प्रचार के दौरान कोविड-19 के निर्देशों का पालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था।  

मुख्य न्यायाधीश टी बी एन राधाकृष्णन की पीठ ने दो जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सभी जिलाधिकारियों को आदेश दिया था कि वे निर्वाचन आयोग और मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा जारी निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करें।