West Bengal Assembly Election 2021: बंगाल में पहले चरण के चुनाव के लिए सीएपीएफ की 684 कंपनियों की होगी तैनाती

 

चुनाव आयोग बंगाल में 27 मार्च को होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान के लिए पांच जिलों में 7,034 परिसरों में स्थित 10,288 बूथ पर केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) की कम से कम 684 कंपनियां तैनात करेगा। यह जानकारी शनिवार को एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी।

अधिकारी ने कहा कि पहले चरण में पुरुलिया, बांकुड़ा, झाड़ग्राम, पूर्व मेदिनीपुर (हिस्सा एक) और पश्चिम मेदिनीपुर (हिस्सा एक) के 30 विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव होना है। अधिकारी ने मीडिया को बताया कि झाड़ग्राम जिले में नक्सली गतिविधि को ध्यान में रखते हुए चुनाव आयोग ने प्रति बूथ अर्धसैनिक बल के 11 जवानों को तैनात करने का फैसला किया गया है, जो अब तक राज्य में किसी भी चुनाव में सबसे अधिक संख्या होगी। उस दिन जिन अन्य जिलों में चुनाव होंगे वहां प्रति बूथ अर्धसैनिक बल के औसतन छह जवानों की तैनाती होगी।

अधिकारी ने कहा कि चुनाव के लिए केंद्रीय बलों की कुल 144 कंपनियों को झाड़ग्राम में तैनात किया जाएगा। अधिकारी ने कहा, ‘‘झाड़ग्राम में 1,010 परिसर में फैले सभी 1,307 बूथों को नक्सल प्रभावित क्षेत्र घोषित किया गया है और हमने बूथ प्रबंधन के लिए केंद्रीय बलों की 127 कंपनियों को तैनात करने का फैसला किया है। चुनाव आयोग ने इस जिले में प्रत्येक बूथ का प्रबंधन करने के लिए लगभग 11 कर्मी आवंटित किये हैं।'' उन्होंने कहा कि सीएपीएफ की चौदह कंपनियों को त्वरित प्रतिक्रिया टीमों के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा। जहां तक ​​अन्य जिलों का संबंध है, पुरुलिया में 185 कंपनियों की तैनाती की जाएगी। वहां 2025 परिसरों में फैले 3127 बूथों पर 185 कंपनियों को तैनात किया जाना है। 

ADVERTISEMENT