Holi 2021: आज जलेगी सम्मत और कल मनेगी होली, जानिए शुभ मुर्हूत

कोयलांचल का मूड होलियाना हो चुका है। एक सप्ताह से होली मिलन समारोह का दाैर चल रहा था। स्कूल-कॉलेज से लेकर तमाम दफ्तरों में होली की छुट्टी हो चुकी है। आज रविवार की छुट्टी है। इसके अगले दिन सोमवार और मंगलवार को होली की छुट्टी है। आज 28 मार्च की रात सम्मत (होलिका दहन) जलेगी। इसके अगले दिन सोमवार 29 मार्च को होली मनाई जाएगी। लोग होलिका दहन की तैयारी में जुटे हैं। इसके लिए सम्मत बनाई जा रही है। आइए, होलिका दहन और होली के शुभ मुर्हूत को जानते हैं।

धनबाद के धैया शनि मंदिर स्थित सम्मत तैयार करते लोग

रात 12: 30 से पहले होलिका दहन श्रेयस्करधनबाद के ज्योतिषाचार्य पंडित रमा शंकर तिवारी के अनुसार होलिका दहन फाल्गुन महीने की पूर्णिमा तिथि को रात्रि में किया जाता है। पूर्णिमा तिथि के पूर्वाद्र्घ भाग में भद्रा व्याप्त रहती है। शास्त्रानुसार भद्रा में होलिका दहन वर्जित है। इस रविवार को पूर्णिमा तिथि के पूर्वाद्र्घ में भद्रा अपराह्नï 1:34 बजे तक रहेगी । पूर्णिमा तिथि रविवार को रात्रि 12:40 बजे तक रहेगी। होलिका दहन पूर्णिमा तिथि में रविवार को सूर्यास्त के उपरांत प्रदोषकाल में करना श्रेयस्कर व शास्त्र सम्मत रहेगा। चूंकि रविवार को पूर्णिमा रात में 12:40 बजे तक रहेगी, अत: रात्रि 12:30 बजे से पूर्व तक में होलिकादहन कर लेना उचित रहेगा। इसबार होलिका दहन हस्त नक्षत्र, कन्या राशि एवं वृद्घि योग में किया जायेगा।

29 को दिनभर उड़ेंगे रंग-गुलाल

वसंत ऋतु का मुख्य पर्व होली या वसन्तोत्सव चैत्र मास के कृष्णपक्ष की प्रतिपदा तिथि को हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इस बार चैत्र कृष्ण प्रतिपदा 28 मार्च रविवार को रात्रि 12:40 बजे से प्रारंभ होकर सोमवार 29 मार्च को रात्रि 10:35 बजे तक रहेगी। इसप्रकार चैत्र कृष्ण प्रतिपदा सोमवार 29 मार्च को दिनभर रहेगी। अत: खुशी उल्लास प्रेम एवं रंगों का पावन पर्व होली 29 मार्च सोमवार को मनाना शास्त्र सम्मत रहेगा। होली सभी के लिए कल्याणकारी रहे। इस वर्ष कोरोना के प्रकोप के कारण होली के पर्व को विशेष सावधानी व संयमित तरीके से मनाना श्रेयस्कर रहेगा।