Farmers Protest: शरद पवार बोले, राज्यपाल के पास कंगना से मिलने का समय है, किसानों के लिए नहीं


दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में मुंबई में किसान रैली को संबोधित करते एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि ठंड के मौसम में पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसान पिछले 60 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं। क्या प्रधानमंत्री ने उनके बारे में पूछताछ की है? क्या ये किसान पाकिस्तान के हैं? आप राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने राजभवन जा रहे हैं। शरद पवार ने किसानों से कहा कि महाराष्ट्र ने ऐसा राज्यपाल पहले कभी नहीं देखा है। उनके पास कंगना (रनोट) से मिलने का समय है लेकिन किसानों के लिए नहीं। यहां आने और आपसे मिलने के लिए राज्यपाल की नैतिक जिम्मेदारी थी।

मुंबई के आजाद मैदान में सोमवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार और महाराष्ट्र कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बालासाहेब थोराट किसानों के प्रदर्शन में शामिल हुए। इस बीच, मुंबई में राजभवन (गवर्नर हाउस) की ओर बढ़ रहे नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे आंदोलनकारियों को पुलिस ने रोक दिया। महाराष्ट्र में कृषि कानून के विरोध में राज्य के विभिन्न जिलों के किसान मुंबई के आज़ाद मैदान में इकट्ठा हुए। एक प्रदर्शनकारी कहते हैं कि हम राज्यपाल को ज्ञापन देंगे। हमारे परिवार भी हमारे साथ आए हैं क्योंकि अगर हम हार गए तो पूरा परिवार सड़क पर आ जाएगा।

गौरतलब है कि तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ रैली में शामिल होने के लिए महाराष्ट्र के विभिन्न भागों से हजारों किसान रविवार की शाम मुंबई पहुंचे। दक्षिण मुंबई के आजाद मैदान में सोमवार को होने वाली रैली को राकांपा प्रमुख शरद पवार समेत सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी के कई नेता संबोधित करेंगे। मुंबई पुलिस ने रैली को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। स्टेट रिजर्व पुलिस फोर्स (एसआरपीएफ) के जवानों को भी रैली स्थल पर तैनात किया गया है। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि ड्रोन से भी रैली पर नजर रखी जाएगी। आल इंडिया किसान सभा की महाराष्ट्र इकाई ने एक बयान में कहा कि रैली में शामिल होने के लिए शनिवार को ही नासिक से 15 हजार से ज्यादा किसान कई साधनों से निकले थे। इस रैली को प्रदेश कांग्रेस ने भी समर्थन दिया है। 

ADVERTISEMENT