दोनों सीटों पर पीछे 'सीएम कैंडिडेट' पुष्पम प्रिया, ट्विटर पर बोलीं- EVM HACKED


बिहार विधानसभा चुनाव की मतगणना शुरू हो गई है और सबसे ज्यादा लोगों की नजर द प्लूरल्स पार्टी की प्रमुख पुष्पम प्रिया चौधरी पर है. वो बिहार की दो विधानसभा सीटों से चुनावी किस्मत आजमा रही हैं. पटना की बांकीपुर और मधुबनी की बिस्फी सीट से उतरी पुष्पम प्रिया ने स्थानीय समाचार पत्रों में विज्ञापन देकर खुद को अगला मुख्यमंत्री प्रत्याशी घोषित कर रखा था. पुष्पम प्रिया दो सीटों से पीछे चल रही है. 

पुष्पम प्रिया ने ट्वीट कर कहा कि बिहार में EVM हैक हो गई है और प्लूरल्स पार्टी के वोट को बीजेपी ने अपने पक्ष में कर लिया. 

बांकीपुर सीट से पुष्पम प्रिया पीछे 

पटना की बांकीपुर विधानसभा सीट पर द प्लूरल्स पार्टी की पुष्पम प्रिया के सामने कांग्रेस से शत्रुघ्न सिन्हा के बेटे लव सिन्हा, बीजेपी से तीन बार के विधायक नितिन नवीन हैं. नितिन नवीन के पिता नवीन किशोर सिन्हा भी यहां से कई बाहर विधायक रह चुके हैं. ऐसे ही पुष्पम प्रिया भी जेडीयू के पूर्व एमएलसी विनोद चौधरी की बेटी है. इस तरह से बांकीपुर सीट पर तीनों नेता अपने-अपने पिता की सियासी विरासत को बचाए रखने की चुनौती है. हालांकि, पुष्पम प्रिया ने बांकीपुर सीट पर नीतीश कुमार से लेकर तेजस्वी यादव सहित तमाम मुख्यमंत्री पद के दावेदारों को बांकीपुर सीट से चुनाव लड़ने के आग्रह करते हुए चुनौती थी. 

बीजेपी प्रत्याशी नितिन नवीन आगे चल रहे हैं और दूसरे नंबर पर लव सिन्हा हैं

बिस्फी सीट से आरजेडी आगे

मधुबनी जिले की बिस्फी सीट से भी द प्लूरल्स पार्टी की पुष्पम प्रिया मैदान में हैं, जहां उनके खिलाफ आरजेडी से फैयाज अहमद और बीजेपी से हरिभूषण ठाकुर कैंडिडेट हैं. 2015 के विधानसभा चुनाव में यहां से आरजेडी के फैयाज अहमद लगातार दूसरी बार विधायक चुने गए थे और हैट्रिक के मकसद से किस्मत आजमा रहे हैं. पुष्पम प्रिया के उतरने से इस बार यह सीट काफी हाईप्रोफाइल मानी जा रही हैं. 

पुष्पम प्रिया तीसरे नंबर पर चल रही है, यहां से आरजेडी प्रत्याशी आगे चल रहे हैं

पुष्पम प्रिया का सियासी सफर

बिहार विधानसभा चुनाव में पुष्पम प्रिया चौधरी पर प्रदेश ही नहीं बल्कि देश भर की नजर है. मूल रूप से दरभंगा की रहने वाली पुष्पम ने लंदन के मशहूर लंदन स्कूल ऑफ इकॉनमिक्स से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स की डिग्री ली है. लंदन रिटर्न पुष्पम को बिहार राजनीति में अकेले चुनावी मैदान में उतरी थी. हालांकि, एक समय में उनके पिता जेडीयू में थे, लेकिन इस चुनाव में पुष्पम ने अलग ही पार्टी बनाकर मैदान में उतरीं. 

पुष्पम प्रिया ने अपने पहले चुनाव में साफ सुथरी छवि वाले सामाजिक कार्यकर्ताओं, शिक्षक, डॉक्टर और अन्य पेशेवरों को टिकट देने की कोशिश की. पुष्पम ने मार्च के बाद से बांकीपुर में गांवों का दौरा कर रही हैं और स्थानीय लोगों से मिल रही थी. प्लूरल्स पार्टी की अध्यक्ष पुष्पम प्रिया चौधरी ने खुद को मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित किया था. ऐसे में देखना है कि उनकी राजनीति को बिहार के लोग कितना पसंद करते हैं और क्या वो विधानसभा पहुंच पाएंगी. 


ADVERTISEMENT