दिवाली से पहले घुसपैठ कराने की फिराक में पाक, LoC पार लॉन्च पैड्स पर 350-400 आतंकी मौजूद

आतंकवादियों के खिलाफ भारतीय सुरक्षा बलों के ऑपरेशन से पाकिस्तान की सेना और खुफिया एजेंसी आईएसआई बौखलाहट में है. खुफिया सूत्रों से आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक दीवाली से पहले ही पाकिस्तानी सेना घाटी में आतंकियों की बड़ी घुसपैठ कराने की फिराक में है.

इस साल 1 नवंबर तक ही सुरक्षा बलों ने कश्मीर घाटी में 200 आतंकियों को ढेर किया. जबकि 2019 में पूरे साल में 157 आतंकी मारे गए थे. बता दें कि रविवार को भी सुरक्षा बलों ने माछिल सेक्टर में घुसपैठ की बड़ी कोशिश नाकाम की और लाइन ऑफ कंट्रोल के पास तीन आतंकियों को मार गिराया. पाकिस्तानी सेना की शह पर हुई घुसपैठ को साल की दूसरी सबसे बड़ी कोशिश माना जा रहा है.

घाटी में आतंकियों की घटती संख्या और उनके पास हथियारों की कमी से पाकिस्तान के होश उड़े हुए है. यही वजह है कि पाकिस्तानी सेना बड़ी संख्या में घुसपैठियों को सरहद पार कराने के लिए हाथ-पैर मार रही है. इसी बौखलाहट में पाकिस्तानी सेना और आईएसआई की ओर से दीवाली से पहले घुसपैठ की कई कोशिशें हो सकती है. ऐसी स्थिति में भारतीय सुरक्षा बलों को एलओसी के पास कई सेक्टर में पूरी तरह अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं. 

खुफिया सूत्रों से आजतक को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) के कवर के साथ 350 से 400 आतंकी लॉंच पैड पर इस वक्त भी मौजूद हैं. पता चला है कि पाकिस्तानी सेना की ओर से घुसपैठ को आसान बनाने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है.

माछिल, गुरेज़, तंगधार, केरन और उरी सेक्टर के सामने लाइन ऑफ कंट्रोल के उस पार पाकिस्तान ने 20 से ज्यादा लॉंच पैड को सक्रिय कर दिया है. लश्कर, जैश, हिज्बुल मुजाहिदीन, अल बदर और तालिबानी- अफगानी आतंकवादियों को इकट्ठा किया गया है. इनमें से बड़े लॉन्च पैड केल तेजियन, सरदारी, सोनार, लोसार, शेरखान टॉप, दूधनियाल ठमुगम जूरा जैसे इलाकों में बताए जा रहे हैं.

खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आतंकियों के 5 ग्रुप माछिल सेक्टर के ठीक सामने आतंकी लॉन्चिंग पैड पर मौजूद है. यहां कुल आतंकियों की संख्या 50 से ज्यादा बताई जा रही है जो घुसपैठ की फिराक में है. इसी तरह 60 से जैश और लश्कर के आतंकी गुरेज सेक्टर के ठीक सामने लॉंच पैड-सोनार, लोसार और शेर खान टॉप पर मौजूद हैं. केरन सेक्टर के सामने भी लश्कर और हिज्बुल मुजाहिदीन के करीब 50 आतंकी मौजूद है जो कि घुसपैठ करने के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं. हालिया एक रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि पाकिस्तानी सेना के स्पेशल सर्विस ग्रुप (एसएसजी) कमांडो जिन्हें BAT भी कहा जाता है, इनको घुसपैठ करने में मदद कर रहे हैं.  

एलओसी के पार लॉन्च पैड्स पर आतंकियों की बड़ी संख्या में मौजूदगी को भारतीय सुरक्षा बलों ने इनकी डिकोड किया है.  पाकिस्तान की सेना ने इस साल नौशेरा, राजोरी और पुँछ इलाकों में सरहद पर सबसे ज्यादा रहा सीजफायर का उल्लंघन किया है. सूत्रों ने बताया कि इसी इलाके में BG सेक्टर पड़ता है जहां लश्कर के 8 और हिज़बुल मुजाहिदीन के 10 आतंकी पाकिस्तानी पोस्ट पीपी टेकरी पर बैठे हैं. यही वजह है कि पाकिस्तान इस जगह से सबसे ज़्यादा सीजफायर उल्लंघन कर रहा है. 

सुरक्षा एजेंसियों के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस वक्त पाकिस्तानी सेना और आईएसआई का ज़ुरा,खोई,छेजुआ जैसे खतरनाक लॉंच पैड्स पर जोर है. यहां से 40 से ज्यादा आतंकी छांटे गए हैं, जिनकी दीवाली से पहले घाटी में घुसपैठ का प्लान बनाया गया है. 

नौगाम सेक्टर में पिछले साल की अपेक्षा भारी संख्या में आतंकी मौजूद है. यहां पर आईएसआई ने 6 नए लॉंच पैड सक्रिय किए हैं जहां 24 आतंकी मौजूद हैं. ये नए लॉन्च पैड नौकार, मंडाकुली, कथाबैक, गबडोरी, खप्पी और पॉकेट कंपेलक्स में स्थित है. 

सूत्रों ने बताया है कि पाकिस्तानी सेना ने अपने घेरे में इन आतंकियों को रखा हुआ है जिससे कि आने वाले एक-दो हफ्ते में उनकी घुसपैठ घाटी में कराई जा सके. पाकिस्तान इसी लिए अपनी फॉरवर्ड लोकेशन पर बंकर भी बना रहा है. पाकिस्तान अंडरग्राउंड बंकर इसलिए बना रहा है, ताकि आतंकियों को भारतीय सुरक्षा बलों की पैनी नजर में आने से छुपा कर रखा जा सके. 


ADVERTISEMENT