Jallianwala Bagh Express: टाटा से अमृतसर की कोई ट्रेन नहीं; परिचालन बंद रहने से कई शहरों के संगत परेशान

पिछले लगभग छह महीने से जमशेदपुर से अमृतसर जाने वाली जालियांवाला बाग एक्सप्रेस (Tatanagar Jallianwala Bagh Express) व टाटा-जम्मूतवी एक्सप्रेस (Tatanagar Jammu Tawi Express) का परिचालन बंद रहने से लौहनगरी (टाटा) समेत इसके आसपास के शहरों के संगत खासा परेशान हैं। अमृतसर स्थित दरबार साहिब (स्वर्ण मंदिर), उत्तराखंड स्थित हेमकुंड साहिब समेत इसके आसपास के तीर्थ स्थलों की यात्रा न कर पाना उन्हें साल रहा है। अपनी यात्रा जारी रखने की कड़ी में सिख समुदाय के कुछ जत्थों ने टूर एंड ट्रेवल एजेंसियों से संपर्क साधा, किराया मद में एजेंसियों ने 36 हजार रुपये की डिमांड कर डाली, जो इनके लिए संभव नहीं था। इससे इतर आर्थिक तौर पर संपन्न समुदाय के कुछ सदस्य अपनी कार से ही संबंधित स्थलों की यात्रा कर डाली, परंतु समुदाय की एक बड़ी आबादी इससे आज भी वंचित है। बताते चलें कि जमशेदपुर समेत सिर्फ इसके आसपास के शहरों में सिख धर्मावलंबियों की आबादी लगभग दो लाख है।

लगभग एक दर्जन शहरों के धर्मावलंबी करते हैं साथ-साथ यात्रा: सेवा सोसाइटी के अमरजीत सिंह बॉबी के अनुसार ट्रेनों का परिचालन नहीं होने से सिर्फ जमशेदपुर और इसके आसपास के शहरों के ही नहीं, बल्कि आसनसोल, मुगलसराय, बाराबंकी, फैजाबाद, लखनऊ, लुधियाना आदि शहरों के सिख धर्मावलंबी मायूस हैं। हेमकुंड साहिब व पंजाब के गुरुद्वारों के दर्शन के लिए इन शहरों के जत्थे हर साल साथ-साथ यात्रा करते थे।

कार से ही हेमकुंड साहिब के दर्शन को निकला जत्था: जमशेदपुर समेत इसके आसपास के इलाके से सिख समुदाय के हजारों धर्मावलंबी हर साल हेमकुंड साहिब की यात्रा पर जाते हैं। सन्नी सिंह और उनके मित्रों की भी ऐसी ही मंडली है, जो हर हाल में हर साल हेमकुंड पहुंचती है। मंडली के सन्नी सिंह के अनुसार जब कोई राह नहीं दिखी तो अपने आठ दोस्तों के साथ कार से ही यात्रा पर निकल पड़ा।

जब दिल्ली, पुरी के लिए ट्रेन तो पंजाब के लिए क्यों नहीं: सेंट्रल गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान महेंद्र सिंह के अनुसार जब सरकार दिल्ली, पुरी, अहमदाबाद, मुंबई आदि शहरों के लिए ट्रेनों का परिचालन कर रही है तो फिर पंजाब के लिए परिचालन क्यों बंद है। रेलवे को इसपर गंभीरता से विचार करना चाहिए। सिख समुदाय के लाखों परिवारों के लिए यह आस्था का विषय है। सेंट्रल सिख नौजवान सभा के पूर्व प्रधान  सतवीर ङ्क्षसह सूमो के अनुसार टे्रनों का परिचालन नहीं होने से आम आदमी पंजाब स्थित खेत-खलिहान, जमीन-मकान तक भी नहीं पहुंच पा रहा है।


ADVERTISEMENT