रोसड़ा (सु.) सीट कांग्रेस से छीनने पर भाजपा आमादा

 समस्तीपुर(एजेंसी) : रोसड़ा विधानसभा क्षेत्र सुरक्षित है. 1994 में रोसड़ा को जिले का दर्जा मिलते -मिलते रह गया. तब से आज तक चुनाव में यह मुद्दा रहा है. मौजूदा विधानसभा चुनाव में यह मुद्दा भी गरमा गया है. रोसड़ा(सु.) विधानसभा क्षेत्र में इस वर्ष 12 प्रत्याशी अपना भाग्य आजमा रहे हैं. इनमें मुख्य रूप से चार प्रत्याशी भाजपा के जिला मंत्री वीरेंद्र कुमार, कांग्रेस के नागेंद्र कुमार, लोजपा  प्रत्याशी चिराग पासवान के चचेरे भाई कृष्णा राज और बसपा के विजय कुमार राम शामिल हैं. यह सीट वर्षों से कांग्रेस के अशोक राम के पास थी लेकिन इस बार उन्होंने अपना क्षेत्र बदल लिया है. 

भाजपा ने इस बार अपने जिला मंत्री वीरेंद्र कुमार को अपना प्रत्याशी बनाया है. भाजपा अपने शक्ति केंद्रों से लेकर बूथ तक काफी मजबूती से कार्य करती दिख रही है. वीरेंद्र कुमार घर-घर जाकर संपर्क करते दिख रहे हैं. साथ ही रोसड़ा को जिला एवं नगर परिषद के गठन को प्राथमिकता देने की बात कर रहे हैं. वहीं कांग्रेस प्रत्याशी नागेंद्र कुमार ने एक सभा में अपना कुर्ता फाड़ दिया और कहा कि जबतक जिला नहीं बना लूंगा कुर्ता नहीं पहनूंगा. इसे लोग महामाया प्रसाद शैली का प्रचार बता कर उनका मजाक उड़ा रहे हैं.  लोजपा का प्रत्याशी दिए जाने पर आमजन क्षुब्ध हैं . भाजपा कांग्रेस से यह सीट छीनने के लिए  काफी मेहनत कर रही है. 

जिले के तमाम छोटे-बड़े नेताओं के साथ ही भाजपा के राष्ट्रीय परिषद सदस्य राम सुमिरन सिंह एवं भाजपा के प्रथम जिलाअध्यक्ष बिरहा निवासी रामविलास राय सक्रिय दिख रहे हैं. इस विधानसभा क्षेत्र में 476 मतदान केंद्र हैं जो रोसड़ा, शिवाजीनगर, सिंघिया प्रखंड में अवस्थित है. माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री के समस्तीपुर आगमन के बाद भाजपा की स्थिति और मजबूत होगी.