राजनाथ ने की नौसेना के पूर्व अफसर से बात, कहा- गुंडों ने किया हमला, ऐसी घटना स्वीकार नहीं


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नौसेना के पूर्व अधिकारी मदन शर्मा से बात कर उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछा और पूरे घटना की जानकारी ली. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, 'नौसेना के पूर्व अधिकारी मदन शर्मा से बात कर उनके स्वास्थ्य के बारे में जाना, मुंबई में जिन पर कुछ गुंडो ने हमला किया था. पूर्व सैनिक पर इस तरह का हमला अत्यंत खेदजनक है और इसे स्वीकार नहीं किया जाएगा. मैं उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं.' 

वहीं महाराष्ट्र के पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने इसे स्टेट स्पॉन्सर टेरर बताते हुए कहा कि यह बहुत गलत है. प्रदेश में ऐसे हालात ठीक नहीं है. मैंने सीएम उद्धव को ट्वीट कर गुंडा राज खत्म करने की मांग की है. छह आरोपियों को सिर्फ 10 मिनट में छोड़ दिया गया.  

दरअसल, पूर्व अधिकारी मदन शर्मा ने सोशल मीडिया पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का कार्टून फरवर्ड किया था. इस बात से नाराज शिवसेना कार्यकर्ताओं ने उनकी पिटाई कर दी. मदन शर्मा ने बताया कि व्हाट्सएप पर एक कार्टून था जिसको शेयर करने से शिवसेना ग्रुप के लोगों को आपत्ति हुई थी. बात करने गए तो 10-15 लोग हमें मिलकर मारने लगे. मुझे कह रहे थे कि तुम आरएसएस, बीजेपी के आदमी हो.

हालांकि बाद में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया, लेकिन शनिवार दोपहर तक सभी आरोपियों को 5 हजार रुपये के मुचलके पर जमानत मिल गई. कोरोना महामारी के दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखते हुए यह जमानत दी गई है. जमानत मिलने के खिलाफ खिलाफ गैर जमानती अपराध का मामला दर्ज करने की मांग करते हुए बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने अतिरिक्त पुलिस आयुक्त के कार्यालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया.

प्रदर्शन करने वालों में मारपीट का शिकार बने नौसेना के पूर्व अफसर मदन शर्मा की बेटी भी शामिल थीं. प्रदर्शन करने वाले बीजेपी कार्यकर्ता आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती अपराध के तहत मामला दर्ज करने की मांग कर रहे थे. कांदीवली में अतिरिक्त पुलिस आयुक्त के कार्यालय के सामने प्रदर्शन करने पहुंची मदन शर्मा की बेटी शीला शर्मा ने कहा कि मैं महाराष्ट्र सरकार को कुछ नहीं कहना चाहती हूं. मुझे उन पर भरोसा नहीं है. 

इस बीच, मदन शर्मा के समर्थन में पूर्व सैनिकों के संगठन क्रांति फेडरेशन आया है. घायल मदन शर्मा अभी एक अस्पताल में भर्ती हैं. फेडरेशन के सदस्यों ने अस्पताल में मदन शर्मा से मुलाकात की और कहा वह इस मसले पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सामने इस मुद्दे को उठाएंगे. 

क्रांति फेडरेशन के सदस्यों ने कहा कि हम इन लोगों को जवाब दे सकते हैं लेकिन हम कानून को हाथ में नहीं लेना चाहते हैं. राजनीति में पूर्व सैनिकों को न खींचें. हम सीमाओं की रक्षा करना चाहते हैं.

बता दें कि मुंबई में नौसेना के पूर्व अधिकारी पर हमला मामले में पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया था. पहले समता नगर पुलिस ने शिवसेना के दो कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था. गिरफ्तार लोगों में एक शिवसेना का शाखा प्रमुख कमलेश कदम भी है. कमलेश कदम के अलावा शिवसेना के दूसरे का कार्यकर्ता का नाम है संजय मांजरे है.

ADVERTISEMENT